You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

सी.एम. हेल्पलाइन पोर्टल को और अधिक बेहतर बनाने हेतु आपके सुझाव आमंत्रित हैं

मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य है जिसने नागरिकों की समस्याओं का ...

See details Hide details

मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य है जिसने नागरिकों की समस्याओं का निराकरण करने के लिए सी.एम. हेल्पलाइन की शुरुआत की। मध्य प्रदेश सरकार द्वारा नागरिक प्रशासन में नागरिकों की भागीदारी और उनके अधिकारों के संरक्षण का यह एक ऐतिहासिक और सराहनीय कदम है।

सी.एम. हेल्पलाइन बेहतर प्रशासन हेतु सरकार और नागरिकों के बीच की दूरी को कम करने के लिए एक मंच है। राज्य का कोई भी नागरिक अपनी शिकायतों और सुझावों को सी.एम. हेल्पलाइन के टोल फ्री नंबर 181 पर दर्ज करा सकता है जिनका निराकरण त्वरित रूप से सम्बंधित विभाग और अधिकारियों द्वारा किया जाता है । यह हेल्पलाइन केवल सार्वजनिक शिकायतों का समाधान ही नहीं करती, बल्कि कार्यों में अनावश्यक विलंब को भी कम करती है।

सुशासन और नागरिक जुड़ाव की दिशा में मध्य प्रदेश सरकार ने नागरिकों के लिये सी.एम. हेल्पलाइन जैसी एकीकृत व्यवस्था को स्थापित किया। उत्कृष्ट और त्वरित सेवाएं प्रदान करने के नए कीर्तिमानों के साथ यह यात्रा लगातार जारी है ।

राज्य लोक सेवा अभिकरण, मध्य प्रदेश, राज्य के सभी नागरिकों से अपील करता है कि सी.एम. हेल्पलाइन पोर्टल और इससे मिलने वाली नागरिक सेवाओं को और बेहतर कैसे बनाया जा सकता है, इस संदर्भ में आप अपने महत्वपूर्ण सुझाव हमें भेजें। आपके द्वारा प्राप्त महत्वपूर्ण सुझाव और विचार सी.एम. हेल्पलाइन से मिलने वाली सुविधाओं और उससे दी जाने वाली सेवाओं की गुणवत्ता को और बेहतर बनाने में मददगार साबित होंगे। इसके अलावा आप अतिरिक्त सुविधाएँ भी सुझा सकते हैं जो आपके अनुसार इस प्रणाली में जोड़ी जानी चाहिए।

All Comments
Reset
1 Record(s) Found

Madhusudan Patidar 1 week 5 days ago

कई शिकयते किसी को परेशान करने, द्ववेशतावश या मजे लेने के लिये ही की जाती प्रतीत होती है, इसलिये शासन को चाहिये कि विभाग के क्रमवार उच्च अधिकारियो से सम्पर्क किये बिना या अनावश्यक रूप से किसी को परेशान करने या द्ववेशतावश शिकायत करने वाले शिकायतकर्ताओं के विरूद्ध भी कार्यवाही का प्रावधान शासन द्वारा किया जाना चाहिये ताकि सी.एम.हेल्पलाईन पर शिकायतो के अनावश्यक रूप से ढेर लगने से बचते हुये वास्तविक और ओचित्यपूर्ण शिकायतो का त्वरित निराकरण किया जा सके और आमजन नोकरशाही की लापरवाही व मनमानी से बच सके.