You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Give suggestions for better conservation of wildlife

Start Date: 05-11-2021
End Date: 31-12-2021

वन्य प्राणियों के बेहतर संरक्षण के लिए सुझाव दें

...

See details Hide details

वन्य प्राणियों के बेहतर संरक्षण के लिए सुझाव दें

------------------------------------------------------------------------------------

वन विहार राष्ट्रीय उद्यान एवं चिड़ियाघर में वन्यप्राणियों को गोद लेने की योजना

----------------------------------------------------------------------------------

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में स्थित वन विहार वन्य प्राणियों के संरक्षण और उन्हें प्राकृतिक आवास उपलब्ध कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। वन विहार में दूर तक फैले हरे—भरे जंगल के बीच जंगली जानवरों को स्वछंद घूमते देखा जा सकता है।

यह अनोखा उद्यान नेशनल पार्क होने के साथ-साथ एक चिड़ियाघर (zoo) तथा जंगली जानवरों का रेस्क्यू सेंटर (बचाव केन्द्र) भी है। 4.5 वर्ग किमी में फैले इस राष्ट्रीय उद्यान एवं जू के एक तरफ पूरा पहाड़ और हराभरा मैदानी क्षेत्र है जो हरियाली से आच्छादित है। दूसरी ओर भोपाल का मशहूर तथा खूबसूरत बड़ा तालाब (ताल) है। जो कि रामसर साईट भी है। यह राष्ट्रीय उद्यान एवं जू का अनूठा संगम है जो कि बहुत सुंदर लगता है।
वन विहार की शानदार खासियतों की वजह से ही इसे 26 जनवरी 1983 को राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा दिया गया एवं कालांतर में 24 नवंबर 1994 को इसे मध्यम दर्जे के जू के रूप में चिंहित किया गया।

इस राष्ट्रीय उद्यान का मुख्य द्वार बोट क्लब के पास से है। इसका नाम रामू गेट है। इस गेट से दूसरी ओर भदभदा क्षेत्र स्थित चीकू गेट तक की कुल दूरी 5 किलोमीटर है। इस रास्ते को पार करते हुए आपको कई खूबसूरत तथा कभी ना भूलने वाले दृश्य दिखाई देंगे। आप इस विहार में इच्छानुसार पैदल, साइकिल, मोटरसाइकिल, कार या फिर बस से भी घूम सकते हैं। यहाँ आने वाले पर्यटकों को बेहतर सुविधा मिले इसके लिए सभी बातों का विशेष ख्याल रखा जाता है।

वन विहार का मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक रूप में वन्यप्राणियों की सुरक्षा, उन्हें आश्रय देने के साथ ही उनके प्राकृतिक आवास को बचाये रखने हेतु जनसाधारण में जागरूकता का विकास करना है। इसी क्रम में वन विहार राष्ट्रीय उद्यान द्वारा आम लोगों में वन्यप्राणियों के संरक्षण के प्रति जागरूकता लाने के लिए वन्यप्राणियों को गोद लेने की योजना 1 जनवरी 2009 से प्रारंभ की गई है। इसके अंतर्गत कोई भी व्यक्ति अथवा संस्था वनविहार के बाघ, सिंह, तेंदुआ, भालू, हाइना, जैकाल, मगरमच्छ, घड़ियाल एवं अजगर में से किसी भी वन्यप्राणी को मासिक, त्रैमासिक, अर्धवार्षिक एवं वार्षिक आधार पर गोद ले सकता है।

इन वन्यप्राणियों को गोद लेने के लिए भुगतान की गई राशि आयकर की धारा 80 जी एस के अंतर्गत छूट के दायरे में आती है।
साथ ही गोद लेने वाले व्यक्ति या संस्था को 10 प्रतिशत की राशि के नि:शुल्क प्रवेश पास की सुविधा प्रदान की जाती है।
वन्यप्राणियों को गोद लेने वाले व्यक्ति या संस्था के नाम की पट्टिका उस वन्यप्राणी के बाड़े के समक्ष एवं दोनों प्रवेश द्वारों पर प्रदर्शन के लिए लगाई जाती है।

इस योजना में अब तक विभिन्न संस्थाओं द्वारा 78 वन्यप्राणियों को गोद लिया जा चुका है और इसके माध्यम से रु.6121580 की राशि प्राप्त हो चुकी है।
वन विहार प्रशासन के साथ-साथ एक जागरूक नागरिक के रूप में हमारी भी जिम्मेदारी है कि वन्यप्राणियों का संरक्षण और संवर्धन करें।
आपके द्वारा वन्य प्राणियों को गोद लेने के लिए की गई एक छोटी सी पहल वन्यप्राणियों और प्रकृति के संरक्षण में बड़ा बदलाव ला सकता है।
तो आगे आइए, मदद का हाथ बढ़ाइए, वन्य प्राणियों को गोद लेकर इनके संरक्षण में अपनी भूमिका निभाइए।

All Comments
Reset
62 Record(s) Found
0

NTA EXAM RESULTS 2 hours 25 min ago

भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम, 1972 भारत सरकार ने सन् 1972 ई॰ में इस उद्देश्य से पारित किया था कि वन्यजीवों के अवैध शिकार तथा उसके हाड़-माँस और खाल के व्यापार पर रोक लगाई जा सके। इसे सन् 2003 ई॰ में संशोधित किया गया है .जीवन श्रंखला समस्त जीवों के आपसी सद्भाव पर निर्भर है। इस देश में एक युग ऐसा था जब आश्रमस्थ ऋषियों के साथ हिंसक और अहिंसक सभी प्राणी रहते थे।
https://ntaexamresults.com
https://ntaexamresults.com/tamilrockers-isaimini-tamilrockers-isaimini-t...

540

ShivamSingh 1 day 11 hours ago

जानवर को महज जानवर न समझें, बल्कि अपना अस्तित्व बनाए रखने का जरिया समझें पृथ्वी पर जीवन का विकास पर्यावरण के अनुकूल ऐसे माहौल में हुआ है, जिसमें जल, जंगल, जमीन और जीव-जंतु सभी आपस में एक-दूसरे से परस्पर जुड़े हुए हैं. प्रकृति ने धरती से लेकर वायुमंडल तक विस्तृत जैवविविधता को इतनी खूबसूरती से विकसित एवं संचालित किया है कि अगर उसमें से एक भी प्रजाति का वजूद खतरे में पड़ जाए तो सम्पूर्ण जीव-जगत का संतुलन बिगड़ जाता है.
https://examnotesfind.com

100

Technical Earth 1 day 14 hours ago

वन्य प्राणी इस दुनिया की सुंदरता हैं। इन्हें सुरक्षित रखना जरूरी है। जानवर को महज जानवर न समझें, बल्कि अपना अस्तित्व बनाए रखने का जरिया समझें। पृथ्वी पर जीवन का विकास पर्यावरण के अनुकूल है। जिसमें सभी जीव का अपना महत्वपूर्ण भूमिका है।
https://gyanveda.in/

1980

SHIVAMSHARMA 3 days 1 hour ago

जंगली जीव हर उस वृक्ष, पौधे, जानवर और अन्य जीव को कहते हैं जिसे मानवों द्वारा पालतू न बनाया गया हो। जंगली जीव दुनिया के सभी परितंत्रों (ईकोसिस्टम​) में पाए जाते हैं, जिनमें रेगिस्तान, वन, घासभूमि, मैदान, पर्वत और शहरी क्षेत्र सभी शामिल हैं।

34230

SANJAY KUMAR BUNKAR 3 days 3 hours ago

ऐसे जीवों की आबादी है, जिनके लुप्त होने का जोखिम है, क्योंकि वे या तो संख्या में कम है, या बदलते पर्यावरण या परभक्षण मानकों द्वारा संकट में हैं। साथ ही, यह वनों की कटाई के कारण भोजन और/या पानी की कमी को भी द्योतित कर सकता है। प्रकृति के संरक्षणार्थ अंतर्राष्ट्रीय संघ (IUCN) ने 2006 के दौरान मूल्यांकन किए गए प्रजातियों के नमूने के आधार पर, सभी जीवों के लिए लुप्तप्राय प्रजातियों की प्रतिशतता की गणना 40 प्रतिशत के रूप में की है।[2]

34230

SANJAY KUMAR BUNKAR 3 days 3 hours ago

वनोन्मूलन का अर्थ है वनों के क्षेत्रों में पेडों को जलाना या काटना ऐसा करने के लिए कई कारण हैं; पेडों और उनसे व्युत्पन्न चारकोल को एक वस्तु के रूप में बेचा जा सकता है और मनुष्य के द्वारा उपयोग में लिया जा सकता है जबकि साफ़ की गयी भूमि को चरागाह (pasture) या मानव आवास के रूप में काम में लिया जा सकता है। पेडों को इस प्रकार से काटने और उन्हें पुनः न लगाने के परिणाम स्वरुप आवास (habitat) को क्षति पहुंची है, जैव विविधता (biodiversity) को नुकसान पहुंचा है और वातावरण में शुष्कता (aridity) बढ़ गयी है।

34230

SANJAY KUMAR BUNKAR 3 days 3 hours ago

जंगली जीव हर उस वृक्ष, पौधे, जानवर और अन्य जीव को कहते हैं जिसे मानवों द्वारा पालतू न बनाया गया हो। जंगली जीव दुनिया के सभी परितंत्रों (ईकोसिस्टम​) में पाए जाते हैं, जिनमें रेगिस्तान, वन, घासभूमि, मैदान, पर्वत और शहरी क्षेत्र सभी शामिल हैं।[1] वन्य जीव जंगली जीवों की वह श्रेणी है जो मानव बसेरों से बहार वनों-पर्वतों में रहते हों। इसके विपरीत बहुत से गिलहरियों, कबूतरों और चमगादड़ों जैसे जंगली जीव वनों से बाहर शहरों में भी बसते हैं। मनुष्यों ने बहुत से जंगली जीवों को विश्व-भर में अपने प्रयोग के

34230

SANJAY KUMAR BUNKAR 3 days 3 hours ago

भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम, 1972 भारत सरकार ने सन् 1972 ई॰ में इस उद्देश्य से पारित किया था कि वन्यजीवों के अवैध शिकार तथा उसके हाड़-माँस और खाल के व्यापार पर रोक लगाई जा सके। इसे सन् 2003 ई॰ में संशोधित किया गया है और इसका नाम भारतीय वन्य जीव संरक्षण (संशोधित) अधिनियम 2002 रखा गया जिसके तहत इसमें दण्ड तथा जुर्माना और कठोर कर दिया गया है। 1972 से पहले, भारत के पास केवल पाँच नामित राष्ट्रीय पार्क थे। अन्य सुधारों के अलावा, अधिनियम संरक्षित पौधे और पशु प्रजातियों के अनुसूचियों की स्थापना तथा

66100

SuryaprakashMishra 4 days 10 hours ago

वन्य प्राणी के संरक्षण के लिए वन की सीमा बढ़ाया जाना चाहिए, वन मे जलाऊ पेड़ पौधे के साथ साथ कीमती पेड़ पौधे को भी लगाना चाहिए, मानव जीवन का वन्य प्राणी जीवों से गहरा रिस्ता है, हमे अपने हद मे रह कर रिस्ता कायम रखना चाहिए, वन्य जीवों के हत्या रोकने के लिए कठोर से कठोर कानून बनना चाहिए

83340

Dr Usha Shukla 4 days 23 hours ago

जीवन श्रंखला समस्त जीवों के आपसी सद्भाव पर निर्भर है। इस देश में एक युग ऐसा था जब आश्रमस्थ ऋषियों के साथ हिंसक और अहिंसक सभी प्राणी सुखपूर्वक रहते थे। फिर-
एक दो दस बीस क्रमशः एक मेला जुड़ गया था।
आदमी का हाथ रचना की डगर पर मुड़ गया था।
इन बढ़ती मानवसंतानों के लिए भवन बने शहर विकसित हुए और जंगल सिमट गए । अब जरूरत है बेहतर राष्ट्रीय उद्यानों और अभ्यारण्यों के विकास की, साथ ही साथ जरूरी है एक कठोर कदम उठाने की जो शिकार,प्राणियों के उत्पाद जैसे चमड़े, हाथीदांत, बालों आदि की तस्करी रोक सके