You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Inviting citizens to give suggestions on Health and Education for AtmaNirbhar MP

Start Date: 07-08-2020
End Date: 11-08-2020

The world has seen a lot of changes in the economy and in life recently because of COVID 19 pandemic and the lockdown. These changes have marked the importance of developing a ...

See details Hide details

The world has seen a lot of changes in the economy and in life recently because of COVID 19 pandemic and the lockdown. These changes have marked the importance of developing a self-sustaining ecosystem for growth. Proving to be a milestone for developing the state, Chief Minister Shri Shivraj Singh Chouhan is working tirelessly to develop the road map for Atma Nirbhar Madhya Pradesh.

Chief Minister Shri Shivraj Singh Chouhan is inviting the citizens of the state to give their suggestions for developing an impeccable Health and Education policy for the state on the following:

✦ Health
✦ Skill Development and Technical Education
✦ Higher Education
✦ School Education

Share your unique, useful and practical suggestions for developing Health and Education system in Madhya Pradesh and lead the state towards a thriving future. These suggestions will help in developing a strong policy under the guidance of Niti Aayog for Madhya Pradesh.

Submit your suggestion before 10:00 am on 10th August 2020.

All Comments
Reset
106 Record(s) Found
5150

Akhilesh Patidar 5 months 2 weeks ago

Dear Sir
Greetings

There are many things to be implemented in education and admin part of education.
1- Under the RTE every year verification should be stopped.
2- Scholarship should be done at one click. Every year updation in waste of time. Only correction should be done.
3- Inspection should be made compulsory in a fortnight.

540

Sudeepjain 5 months 2 weeks ago

आदरणीय मामा जी प्रणाम,
आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश बनाने के आपके संकल्प
को साकार करने के लिए हम लैब टेक्निशयन तैयार है, लेकिन इसके लिए आपकी सरकार का सहयोग जरूरी है हम तकनीशियन को अपने काम को स्वप्रमाणित कर रिपोर्ट देने का अधिकार दिया जाये जिससे सुदूर ग्रामीण क्ष्रेत्रो मे स्वास्थ्य सुबिधाओं का विस्तार हो सके एवं राज्य के लगभग 70-80हजार लैब तकनीशियन आत्मनिर्भर बन सके, इसमे राज्य सरकार पर किसी प्रकार का वित्तीय बोझ भी नहीं पड़ेगा, अतःशीघ्र ही हम लोगो पर अपनी कृपा करें

440

Ritesh panwar 5 months 2 weeks ago

योद्धा की तरह काम कर रहा है। मेडिकल लैब टेक्नीशियन इस कोरोना महामारी में सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम कर रहा है अब समय आ गया है कि लैब टेक्नीशियन को भी उसके अधिकार दिए जाए
माननीय मुख्यमंत्री जी
लैब टेक्नीशियन के नाम से लैब का रजिस्ट्रेशन किया जाय बेसिक लैब की रिपोर्ट को वेरिफाई करके रिपोर्ट देने की मान्यता दिया जाय
जिससे मध्य प्रदेश के लगभग 70 से 80 हजार मेडिकल लैब टेक्नीशियन आत्मनिर्भर बनेंगे
सरकार पर किसी भी प्रकार का वित्तिय बार नहीं आएगा ।
हमारे सुझाव पर विचार करे!

460

Vivek Sanodiya 5 months 2 weeks ago

आदरणीय मुख्यमंत्री जी,
सादर प्रणाम,
मैं शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिए कुछ सुझाव दे रहा हूं।
1. शिक्षा विभाग की वास्तविक स्थिति से अवगत कराना चाहता हूं आज वर्तमान में जो की भर्ती तक आरक्षण तो ठीक है मगर पदोन्नति उनकी (योग्यता+उनका अनुभव+उनकी विभागीय परीक्षा) लेकर ही पदोन्नति या क्रमोन्नति होना चाहिए। क्योंकि क्योंकि इससे हमें अधिक योग्य और अच्छे शिक्षक मिलेंगे।
2. शिक्षा में जो जाति आधारित प्रमोशन के कारण कुछ शिक्षकों को कुछ ज्यादा आता नहीं है और आज प्रमोशन के कारण

120

Vishal Raj 5 months 2 weeks ago

माननीय मुख्यमंत्री जी
शहरी एवं सुदुर ग्रामीण क्षेत्रों में प्रायवेट मेडिकल लैब टेकनोलाजिसट टेक्नीशियन पैथालॉजी लैब संचालित करते हैं
1.लैब टेक्नीशियन के नाम से लैब का रजिस्ट्रेशन किया जाय
2.बेसिक लैब की रिपोर्ट को वेरिफाई करके रिपोर्ट देने की मान्यता दिया जाय
3.जिससे मध्य प्रदेश के लगभग 70 से 80 हजार मेडिकल लैब टेक्नीशियन आत्मनिर्भर बनेंगे एवं
4.सरकार पर किसी भी प्रकार का वित्तिय बार नहीं आएगा ।
5.इससे लाखो को रोजगार मिलेगा। सरकार पर कोई वित्त भार नहीं

580

Amit shrivastava 5 months 2 weeks ago

बेसिक लैब और लैब टेक्नोलॉजिस्ट के नाम से लैब खोलने की अनुमति प्रदान की जाना चाहिए

440

Rajendra Chaporkar 5 months 2 weeks ago

माननीय मुख्यमंत्री जी
शहरी एवं सुदुर ग्रामीण क्षेत्रों में प्रायवेट मेडिकल लैब टेकनोलाजिसट टेक्नीशियन पैथालॉजी लैब संचालित करते हैं
1.लैब टेक्नीशियन के नाम से लैब का रजिस्ट्रेशन किया जाय
2.बेसिक लैब की रिपोर्ट को वेरिफाई करके रिपोर्ट देने की मान्यता दिया जाय
3.जिससे मध्य प्रदेश के लगभग 70 से 80 हजार मेडिकल लैब टेक्नीशियन आत्मनिर्भर बनेंगे एवं

4.सरकार पर किसी भी प्रकार का वित्तिय बार नहीं आएगा ।

5.इससे लाखो को रोजगार मिलेगा। सरकार पर कोई वित्त भार नहीं

580

Amit shrivastava 5 months 2 weeks ago

इतने सालों से सरकार और जनता को अपना सहयोग करते आ रहे लैब जो कि आत्मनिर्भर भारत का पर्याय है जिससे आजतक सरकार पर कोई वित्तीय भार नहीं हुआ अब समय आ गया है कि सरकार को भी हम लैब संचालको की परेशानियों पर ध्यान देना चाहिए। हमें अपने हस्ताक्षर का अधिकार चाहिए

260

santosh sony 5 months 2 weeks ago

निवेदन है कि टेक्नीशियन को साइनिंग अथॉरिटी दी जाना चाहिए। या MBBS. के साथ ही BAMS. रजिस्टर्ड आयुष चिकित्सक को साइनिंग अथॉरिटी देना चाहिए।जिससे टेक्नीशियन निर्भीक होकर रजिस्टर्ड बेसिक लेब संचालित कर जांच के माध्यम से सही इलाज में मदद कर हजारों लोगों की जान बचा सके ।हर छोटे शहर कस्बे में MD नहीं पंहुचा सकता इसलिए सरकार को बेसिक लेब की अनुमति देना चाहिए जिसमें सरकार का खर्च नहीं बल्कि रजिस्ट्रेशन से राजस्व में वृद्धि होगी । कृपया BAMS के साथ टेक्नीशियन को अधिकार देवें । अमल में लाया जाए।

420

Dulichand tetwal 5 months 2 weeks ago

माननीय मुख्यमंत्री जी
शहरी एवं सुदुर ग्रामीण क्षेत्रों में प्रायवेट मेडिकल लैब टेकनोलाजिसट टेक्नीशियन पैथालॉजी लैब संचालित करते हैं
1.लैब टेक्नीशियन के नाम से लैब का रजिस्ट्रेशन किया जाय
2.बेसिक लैब की रिपोर्ट को वेरिफाई करके रिपोर्ट देने की मान्यता दिया जाय
3.जिससे मध्य प्रदेश के लगभग 70 से 80 हजार मेडिकल लैब टेक्नीशियन आत्मनिर्भर बनेंगे एवं

4.सरकार पर किसी भी प्रकार का वित्तिय बार नहीं आएगा ।

5.इससे लाखो को रोजगार मिलेगा। सरकार पर कोई वित्त भार नहीं