You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Inviting suggestions for making Van Vihar completely pollution-free and for improvement of facilities

Start Date: 17-06-2020
End Date: 15-11-2020

Located in Bhopal, Van Vihar National Park functions under the Forest Department of Madhya Pradesh and it appeals to all the citizens to share their suggestions for making Van ...

See details Hide details

Located in Bhopal, Van Vihar National Park functions under the Forest Department of Madhya Pradesh and it appeals to all the citizens to share their suggestions for making Van Vihar completely pollution-free and to improve the facilities there.

Spreading across 445.21 hectares of land, Van Vihar is home to many birds and animals including 1200 herbivorous animals, 211 birds species and about 35 species of butterflies apart from Tiger, Leopard, Bear, Jackal, Bison, Crocodile and Hyena, etc. Van Vihar is also the co-ordinating zoo for Royal Bengal Tigers and Participating zoo for Asiatic lion and Gyps Vulture.

Working towards the conservation of the natural environment for wildlife, their protection and development, several rules like No horn and sound zones, No polythene, No disturbance to the wild animals, no smoking and drinking, no entry in restricted areas, no fishing, etc have been imposed while taking care of visitors and facilities for visitors.

We invite the citizens to tell us about:
1. Which is the best facility in Van Vihar among the available facilities?
2. What measures can be taken to make the facilities better while maintaining the pollution-free environment?

Your suggestions will help us in improving the facilities of Van Vihar and will help in its development.

Guidelines for entering Van Vihar National Park

All Comments
Reset
198 Record(s) Found
160800

tripti gurudev 2 months 1 week ago

वन विहार को पर्यावरण संरक्षण हेतु अधिक से अधिक सुरक्षित वृक्षारोपण एवं पालीथीन मुक्त किया जाना चाहिए।

137040

Govind Sharma 2 months 1 week ago

वनविहार को चाहिए कि अपने वन्य प्राणियों के लिए अधिक से अधिक पेड़ पौधे एवं उनके संरक्षण की जिम्मेदारी को पूर्ण ईमानदारी कर्तव्यनिष्ठा पूर्ण अपने कार्य को करना चाहिए अपने क्षेत्र में वन विहार तथा प्राकृतिक संपदा को बनाए रखने के लिए कुछ महत्वपूर्ण कार्य करने चाहिए जिससे कि अधिक से अधिक वन एवं जीव जंतु प्राणियों की रक्षा सुनिश्चित की जा सके तथा उन्हें किसी भी प्रकार का प्रदूषण या क्षति ना हो ऐसे कार्य करना चाहिए तथा वन विहार क्षेत्रों में पेड़ों की अत्यधिक कटाई पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना चाहिए।

18990

MANISH KUMAR KORI 2 months 1 week ago

वन विहार का मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक रूप में वन्यप्राणियों की सुरक्षा, उन्हें आश्रय देने के साथ ही उनके प्राकृतिक आवास को बचाये रखने हेतु जनसाधारण में जागरूकता का विकास करना है। यहाँ आने वाले पर्यटकों को बेहतर सुविधा मिले इसके लिए सभी बातों का विशेष ख्याल रखा जाता है। जैसे- पेयजल, कैफेटेरिया, टॉयलेट, बैठने की सुविधा, भ्रमण हेतु बैटरी चलित वाहन, जिप्सी, सफारी वाहन, साइकल की सुविधा। वहीं हमारी वजह से वन्यप्राणियों को किसी प्रकार की कोई हानि नहो इसके लिए पार्क के अंदर कुछ क्रियाकलापों

20590

NASEEV KHAN 2 months 2 weeks ago

वन विहार का मुख्य उद्देश्य प्राकृतिक रूप में वन्यप्राणियों की सुरक्षा, उन्हें आश्रय देने के साथ ही उनके प्राकृतिक आवास को बचाये रखने हेतु जनसाधारण में जागरूकता का विकास करना है। यहाँ आने वाले पर्यटकों को बेहतर सुविधा मिले इसके लिए सभी बातों का विशेष ख्याल रखा जाता है। जैसे- पेयजल, कैफेटेरिया, टॉयलेट, बैठने की सुविधा, भ्रमण हेतु बैटरी चलित वाहन, जिप्सी, सफारी वाहन, साइकल की सुविधा। वहीं हमारी वजह से वन्यप्राणियों को किसी प्रकार की कोई हानि न हो इसके लिए पार्क के अंदर कुछ क्रियाकलापों को प्रतिबंध

137040

Govind Sharma 2 months 2 weeks ago

वनविहार को पूर्ण रूप से प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए हमें लोगों को अपशिष्ट पदार्थों जैसे कि पॉलीथिन प्लास्टिक आदि का पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाना चाहिए तथा लोगों को अधिक से अधिक जागरूक करना चाहिएयदि कोई व्यक्ति प्लास्टिक या पॉलीथिन का उपयोग करते पाए जाने पर उसे जुर्माने का प्रावधान भी होना चाहिए वन विहार में लोगों के आकर्षण और अधिक से अधिक वन्यजीवों एवं पेड़ पौधों के बारे में लोगों को उन से लगाव होने लगे ऐसे प्रावधान होने चाहिए!

43860

Manisha Dhurve 2 months 3 weeks ago

कुछ पशुओ को गोद लेकर उसके देखभाल/भरण-पोषण की जिम्मेदारी ली जा सकती है।