You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Inviting suggestions for popularization of Khadi wear

Start Date: 26-11-2019
End Date: 22-01-2020

Khadi Gramodyog, Madhya Pradesh is inviting suggestions on ways to promote Khadi, the indigenous weave of India. ...

See details Hide details

Khadi Gramodyog, Madhya Pradesh is inviting suggestions on ways to promote Khadi, the indigenous weave of India.

Madhya Pradesh Khadi Gramodyog has launched a clothing line of fashionable and designer Khadi under the name ‘Kabira’ in the market. At present, 14 outlets of the brand are operational in the state in Bhopal, Gwalior, Indore, Jabalpur, and other big cities.

MP Khadi Gramodyog is inviting suggestions from people on the below mentioned topics:

● How to popularize clothes made of Khadi?
● How to create awareness on handmade clothes?

The brand Kabira has been launched with the main objective of popularizing Khadi among people of all age groups and to create awareness on ‘Swadeshi’ costumes. It also aims to ensure Khadi textile and craftsmanship enjoy the same respectable position as other modern fabrics.

Khadi is not only eco-friendly but also fits well into any modern attire. Although popularly known as the weave of Mahatma Gandhi, from formals to casuals and from bridal wears to designer footwear, today you can find Khadi leaving a mark everywhere. Gandhiji had mentioned in his speeches that Khadi is a symbol of unity of the people of India and embodies the country’s economic freedom and equality.

The art of cultivation of cotton, its spinning and weaving is India’s contribution to the world at large. India was the first country across the globe to spin a yarn and weave cloth. Khadi stands for this ‘sense of freedom’. Promotion and rampant use of Khadi is likely to give a boost to small scale and cottage industries.

Share your valued thoughts and suggestions to give Khadi the popularity it deserves.

Note:
● Please mention your age with the entry.
● Your suggestion must be relevant to the subject.
● Entry with promotional links will be rejected and deleted.
● Duplicate entries will not be welcomed.

All Comments
Reset
128 Record(s) Found
10130

Ku Snehlata chandel 2 months 1 week ago

खादी बहुत ही अच्छी पोशाक है, क्योंकि महात्मा गांधी ने चरखे से न केवल खादी बनी, बल्कि देश की आजादी भी बुनी। इससे देश के बच्चों को मेहनत, लगन, एकजुटता और देशभक्ति का पाठ सिखाया जा सकता है, खादी की पोशाक को सभी शासकीय व अशासकीय स्कूल व कालेजों की पोशाक अनिवार्य होनी चाहिए।
साथ ही सभी शासकीय कार्यालयों में खादी अनिवार्य रूप से लागू किया जाना चाहिए।

Dr snehlata Chandel d/o late shri sbs Chandel ,55,Maharana pratap colony Shivpuri, M.P.,India
mob.9827055626 email- snehlatachandel88@gmail.com

370

Shilpa Singh 2 months 1 week ago

आज ‘खादी’ को महात्मा गांधी के नाम से जाना जाता है। गांधी जी ने समस्त देशवासियों को संदेश देते हुये कहा था कि खादी भारत की समस्त जनता की एकता की

1360

Aniket Singh 2 months 2 weeks ago

खादी के वस्त्र अधिक लोकप्रिय करने के लिये, आधुनिक तकनीक से जींस आदि नये फैशन के वस्त्र बनाए जायें, और युवा वर्ग को आकर्षित किया जावे ।
Lag Ja Gale Lyrics | Bhoomi | Rahat Fateh Ali Khan
https://www.uniquelyrics.com/2020/01/lag-ja-gale-lyrics-bhoomi-rahat-fat...

470

Dewendra Barange 2 months 2 weeks ago

Govt. have to make e commerce website or app for selling the khadi products. As all knows that khadi products are 100% genuine and good quality product and they are available at very cheap price as compare to others . So it will be milestone

610

Rajan Tiwari 2 months 2 weeks ago

खादी को बढ़ावा देने का सबसे अच्छा तरीका है कि हर उम्र के लोगों के कपड़े खड़ी में बनने चाहिये।नौजवानों को भी खादी की ओर आकर्षित करना चाहिए।
https://nasha-mukti-kendra-bhopal-deaddiction-centre-bhopal.business.site

470

Amit Bhatore 2 months 2 weeks ago

खादी को बढ़ावा देने के लिए प्रचार की अधिक जरूरत है। प्रशासनिक अधिकारियों को सप्ताह में अथवा माह में अवसर मिलने पर खादी के पहनावे को उपयोग में लाने की बात कही थी, परंतु यह नहीं हो रहा है। जिन्हें खादी की यूनिफॉर्म देने का प्रावधान है उन्हें भी यह पिछले कई वर्षों में नसीब नहीं हुई। खादी और स्वदेशी वस्त्रों का बढ़ावा देने के लिए शासकीय विभागों के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों को एक वर्ष में दो बार खादी वस्त्र यूनिफॉर्म के रूप में स्वीकृत है परंतु फंड के अभाव में यह नहीं हो रहा है। सरकार को अपने अधिकारी-क

2140

GYANENDRA SINGH TOMAR 2 months 2 weeks ago

खादी के वस्त्र अधिक लोकप्रिय करने के लिये, आधुनिक तकनीक से जींस आदि नये फैशन के वस्त्र बनाए जायें, और युवा वर्ग को आकर्षित किया जावे ।

470

Ankita pandey 2 months 2 weeks ago

खादी की पहुंच आम जन तक सुनिश्चित की जाए इसके लिए प्रचार ग्रामीण स्तर से होना चाहिए।युवा वर्ग को इससे जोड़ना चाहिए।जगह जगह मेले प्रदर्शनी आदि लगाए।लोगो को निशुल्क प्रचारार्थ दी जाए।स्कूलों आदि में बांटी जाए।जितना लोग जानेंगे फायदे पहचानेंगे तो उपयोग भी करेंगे।

5230

Nandita Mishra 2 months 2 weeks ago

हमारे देश में यदि मुफ्त में खादी से बने कपड़े बांटे जाएं, ऐसे क्षेत्र में जहां गरीब रहते हैं! वो इनका उपयोग करेंगे इससे उनका भी भला होगा और साथ ही खादी का प्रचार भी! शिक्षण संस्थानों में शिक्षकों के लिए खादी का उपयोग अनिवार्य कर दिया जाए!