You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Inviting suggestions to prevent women from becoming victim of social media crimes

Start Date: 28-12-2019
End Date: 18-02-2020

The Director General of Police, State Cyber Police Headquarters, Madhya Pradesh is urging people to share suggestions on checking of social media crimes against women at ...

See details Hide details

The Director General of Police, State Cyber Police Headquarters, Madhya Pradesh is urging people to share suggestions on checking of social media crimes against women at mp.mygov.in. Important thoughts and ideas can go a long way in making women feel safe in the world full of cybercrime.

We live in an era of digitalization, a time where life is unimaginable without the internet. From paying our electricity bill to clearing an examination, our dependency on the internet is paramount. However, as useful as it can get, we are also aware of the adverse effects of internet. According to Madhya Pradesh Cyber Police, about 80% of women using the Internet are falling a victim to cybercrime in one way or the other. Women often become easy targets for cyber miscreants who take advantage of the vulnerability of the latter. This is leading to a steady increase in cyber-crime against women. In a digitally connected world, women become victims of online abuses and intimidations every day.

There are countless ways in which the vulnerability of a woman are put to threat and exploitation. Some of these are:
● Sharing confidential content
● Pornographic content publication
● Talking to strangers
● Chatting through fake profiles
● Photo morphing-using the wrong photo
● Hacking social media account and password
● Online fraud by Facebook and WhatsApp
● Using phishing links to send malware and viruses
● Luring through fake lotteries

Alongside women, school and college students also fall victim to stalking, child grooming etc through social media on the internet. To put a stop to all of these and take women's safety a notch higher, the State Cyber Police is inviting suggestions from the citizens.

To raise awareness among the common people and ensure cyber safety and security of women, Cyber security guidelines have been formulated by the Government of India in the Information, Security, Education and Awareness (ISEA) project. Abiding by these guidelines, women can protect themselves make create awareness on the safety of other women.

Let’s join hands to make ourselves and our nation a safe place for women.

All Comments
Reset
78 Record(s) Found
20340

VIJAY KUMAR VISHWAKARMA 1 month 2 weeks ago

एक ऐसा ऐप डेवलप किया जाए जो युवाओं विशेषकर महिलाओं के मोबाईल पर अनिवार्यत: इंस्टाल हो । उक्त ऐप के माध्यम से मोबाईल वार्तालाप, संदेश, फोटो, वीडियो आदि पर आपत्तिजनक शब्द या सामग्री होने पर उसकी सूचना अभिभावकों के मोबाईल पर स्वत: ही स्थानान्तरित हो जाए, इससे अभिभावक समय पर वस्तुस्थिति से अवगत होकर अपने पाल्यों को सही मार्गदर्शन प्रदान कर सकते हैं ।

20340

VIJAY KUMAR VISHWAKARMA 1 month 2 weeks ago

प्रत्येक सोशल मीडिया प्लेटफार्म में एक ऐसा विकल्प होना चाहिए कि आपत्तिजनक संदेश, सामग्री प्रकाशित होते ही एक क्लिक पर मॉनीटरिंग विभाग को सूचना प्राप्त हो जाए जिससे वे सम्बन्धितों के विरूद्ध वांक्षित कार्यवाही कर सकें ।

21370

RAJESH KUMAR CHAURAGADE 1 month 2 weeks ago

कृपया सोशल मीडिया के माध्यम से अपराधो को कमतर करने के लिए आवश्यक है किं जैसे महिला के नाम से फेसबुक ट्यूटर...... आदि पर खाता खोला जावे तो उक्त खातें आब्जरवेशन हेतु शासकी सेलके गठन पर हिट हो ताकि नियत्रण किया जा सके ।सादर सम्प्रेषित

12510

Arun kumar tiwari 1 month 2 weeks ago

ट्रोलर्स से बचा जा सके।भावनाओं में बहकर किसी को अपने प्रायवेट फ़ोटो, पिक्चर या वीडियो न भेजे जिससे ब्लैकमेलिंग की संभावना नगण्य रहे।फिर भी अगर इस तरह की गतिविधियां होती है या ट्रोलर्स या बुलिंग की जाती है तो बिना डरे बिना झिझक के पुलिस के की सहायता लें।

12510

Arun kumar tiwari 1 month 2 weeks ago

सोशल मीडिया के अत्यधिक प्रयोग से मानवीय बुद्धिमत्ता में कमी देखी गयी है जिससे सही निर्णय लेने में दिक्कतें शुरू हो जाती है।हम जितना ज्यादा समय सोशल मीडिया को देंगे उतना ही सोशलमीडिया के चकाचौंध में खोते जाएंगे।हमे सोशलमीडिया के बेसिक रुलों को कड़ाई से पालन करके अवांछित एवं असमाजिक गतिविधियों से बचा जा सकता है।किसी पर जिसे हम पर्सनली नही जानते के बीच एक सीमा रेखा बना के रखे।किसी को भी पर्सोनल जानकारीफ़ोटोवीडियो शेयर न करे।किसी भी के ट्वीट में या खुद सोच समझकर ट्वीट कर जिससे ऑनलाइन बुलिंग एंड ट्रोलस

1440

ramapati sahu 1 month 2 weeks ago

सोशल मीडिया का शिकार हो रही ज्यादातर महिलाये हमेशा अपनी जानकारी अपने घरवालों को सही बताये अगर उनसे कोई गलती होती है तो उन्हें डरना नहीं चाहिए और न ही उसे छुपाने का प्रयाश करे उसकी जानकारी सोशल मीडिया के माध्यम से पुलिस को दे उसकी जानकारी अपने घरवालों को दे वो अपने सभी दोस्तों का परिचय अपने घर वालो से करवाए और जहा तक हो सके हर काम अपने तरीके से करे और हमेशा जागरूक रहे अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स में किसी अपरचित व्यक्ति से चैट न करे और अपने बारे में बिना जरुरत की जानकारी न बताये

140

G.S. Aanjana 1 month 2 weeks ago

महिलाओं को यथासंभव अपनी व्यक्तिगत जानकारी फेसबुक अथवा व्हाट्सएप पर पोस्ट नहीं करना चाहिए

16300

Bishnu gupta 1 month 2 weeks ago

किसी भी व्यक्ति के पर पूर्णतः विश्वास करना सबसे बड़ी बेवकुफी है

1980

shivani jain 1 month 2 weeks ago

किसी भी प्‍यक्ति की जानकारी पूर्णता न हाेने पर उस विश्‍वास न करे। अपने ि‍विवेक‍ का प्रयोग कर स्‍वयं को सुरक्षित करेेंं।

870

Lavkesh Kumar Sahu 1 month 3 weeks ago

कोई भी व्यक्ति हो बिना जांचे परखे उस पर भरोसा ना करें, सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार का पर्सनल चीजें शेयर ना करें,
क्या सही है क्या गलत है या डिसीजन करने का क्षमता का विकास करें किसी पर आंख मूंदकर भरोसा ना करें और किसी अनजान व्यक्ति से बाहर बात ना करें किसी को भी अपने पर्सनल चीजें शेयर ना करें चाहे वह कितना भी भरोसा दिलाने का प्रयास करें और ना ही अपनी पर्सनल तस्वीरें क्लिक करें आपकी सुरक्षा आपके हाथ में है वह काम ही मत करिए जिससे आपको खतरा हो इस प्रकार आपकी भविष्य सुरक्षित हो सकती है धन्यवाद ्