You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Inviting your views to create awareness on POCSO Act

Children are innocent and simple. People around them take advantage of this innocence and children become victims of exploitation. To ensure the safety of children, the ...

See details Hide details

Children are innocent and simple. People around them take advantage of this innocence and children become victims of exploitation. To ensure the safety of children, the government had to formulate the Protection of Children from Child Sexual Exploitation and Sexual Offenses Act, 2012 i.e. POCSO Act. This act puts children under the age of 18 (irrespective of their gender), who have been sexually abused or attempted to commit any kind, under the purview of the following law. In this law-

● Children have been provided protection from crimes such as sexual assault, sexual harassment and pornography.
● The law works in both cases; where the child has been, or is likely to be sexually abused.
● This law is gender neutral.
● The cases under it are heard in a special court.
● The accused has to prove that he did not commit the crime, the victim does not have to prove anything.
● The Act also entails a provision for strict action in any type of sexual offenses on children below 18 years of age, ranging from fine to life imprisonment and even death penalty.

There is a need to understand that irrespective of age, class, caste or religion, a child can fall victim to exploitation and assault that could be physical, mental and even sexual. It has often been observed that the child's acquaintance or family member is doing so. In such a situation, it is very important to listen carefully to the child and trust him. It is equally essential that children are taught the difference between good touch and bad touch. Empower child by giving proper information so that he can recognize such threats and complain immediately.

It is also necessary for parents to have a keen observation of the behaviour of their children and try to find out reasons upon noticing even the slightest change in behaviour. Things like the child being scared of going to a particular person or feeling uncomfortable in his/her company should compel the parents to take immediate notice.

What is POCSO act?
POCSO act provides protection against serious sexual offences including sexual harassment, sexual assault, and pornography of minor children. Child line number 1098, Toll Free No. 1800115455, and POCSO e-box have been prepared by the National Commission for the Protection of Child Rights for complaints to protect children from such crimes. Children or their parents can easily complain using either of the two.

The Department of Women and Child Development, Madhya Pradesh requests citizens to keep themselves updated with POCSO Act to protect children around them from being exploited. Share your thoughts with us on the below mentioned:

● What should be the role of parents, teachers, schools, society in protecting children from sexual exploitation and sexual offenses?
● How to popularize the Act?
● Can children be protected from such exploitation at home and outside with little vigilance and sensitivity?
● Can such crime be checked by spreading awareness on their punishments?

If you have any suggestions and ideas on spreading awareness about the Act and its punishments, share it with us. To know more about the POCSO act, click here.

All Comments
Reset
122 Record(s) Found
13380

Surbhi Soni 20 min 49 sec ago

Sabse pehle baccho ko acche bure ke baare me btaye.Kyoki bacche ab bahut internet use karte h or voh ulti sidhi site v dekh lete h.Isse unki soch badal jati h.To suruaat se hi agar unhe acche bure ki samajh a jayegi toh vo satark ho jayee.Khud ki raksha karna kafi nhi hota.Sabse pehle soch badalni pdegi tabhi sudhar aayega.5th class se hi baccho ko acche bure touch k bare me bta dena chaiye.Or 1st class se hi parents ko baccho ko btana chaiye ki kbi kisi v aparichit k sath na jaye.

75250

tripti gurudev 1 day 21 hours ago

बच्चों की हमेशा सकारात्मक सोच एवं ऊर्जा विकसित करना उचित होगा।

550

Rajesh Patidar 2 days 9 min ago

MPPSC & PEB की परीक्षाओं में तथा स्कूली पाठ्यक्रम में ऐसे अधिनियम को शामिल कर जागरूकता बड़ाई जा सकती है ST/SC अधिनियम,मानवाधिकार अधिनियम को MPPSC में शामिल करने के सकारात्मक परिणाम प्राप्त हो रहे है।

260150

Bhawna 2 days 7 hours ago

धारा 15 में संशोधन होगा जिसमें व्यवसायिक उद्देश्य से बच्चों की पोर्नोग्राफी से संबंधित सामग्री एकत्रित करने पर न्यूनतम तीन साल की सजा का प्रावधान किया जा रहा है इससे ये धारा गैर जमानती अपराध की श्रेणी में आ जाएगी।

260150

Bhawna 2 days 7 hours ago

धारा चार में संशोधन करके 16 साल से कम उम्र के बच्चे के साथ पेनीट्रेटिव सैक्सुअल असाल्ट में न्यूनतम सात साल की सजा को बढ़ा कर न्यूनतम 20 साल कैद करने का प्रस्ताव है जो कि बढ़ कर उम्रकैद तक हो सकती है। पैसे के बदले यौन शोषण और बच्चे को जल्दी बड़ा यानी वयस्क करने के लिए हार्मोन या रसायन देना भी एग्रीवेटेड सैक्सुअल असाल्ट माना जाएगा।

260150

Bhawna 2 days 7 hours ago

संशोधित कानून में पोस्को कानून की धारा 4,5,6,9,14,15 और 42 में संशोधन करने का प्रस्ताव है। धारा 6 एग्रीवेटेड पेनीट्रेटिव सैक्सुअल असाल्ट पर सजा का प्रावधान करती है। अभी इसमें न्यूनतम 10 वर्ष की कैद है जो कि बढ़कर उम्रकैद व जुर्माना तक हो सकती है। प्रस्तावित संशोधन में न्यूनतम 20 वर्ष की कैद जो बढ़ कर जीवन पर्यन्त कैद और जुर्माने के अलावा मृत्युदंड तक का प्रावधान किया गया है। धारा 5 में संशोधन करके जोड़ा जाएगा कि अगर यौन उत्पीड़न के दौरान बच्चे की मृत्यु हो जाती है

260150

Bhawna 2 days 7 hours ago

बच्चों के हित संरक्षित करने और बाल यौन अपराध को रोकने के उद्देश्य से लाया जा रहा पोस्को संशोधन विधेयक इसी सत्र में संसद में पेश हो सकता है। महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने पहले ही कहा था कि सभी बच्चों को इससे बचाने के लिए जेन्डर न्यूट्रल कानून पोस्को में संशोधन किया जाएगा।

260150

Bhawna 2 days 7 hours ago

केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने लड़की-लड़कों दोनों यानी बच्चों को यौन उत्पीड़न से बचाने के बाल यौन अपराध संरक्षण कानून (पोस्को )2012 में संशोधन को मंजूरी दे दी है। संशोधित कानून में 12 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के साथ दुष्कर्म करने पर मौत की सजा तक का प्रावधान है। इसके अलावा बाल यौन उत्पीड़न के अन्य अपराधों की भी सजा कड़ी करने का प्रस्ताव है।

260150

Bhawna 2 days 7 hours ago

बारह वर्ष से कम उम्र की बच्चियों के साथ दुष्कर्म में फांसी की सजा का प्रावधान तो पहले ही हो गया था, लेकिन आइपीसी में हुए संशोधन से यौन शोषण का शिकार होने वाले बालक छूट गए थे। अब बालकों को भी यौन शोषण से बचाने और उनके साथ दुराचार करने वालों को फांसी की सजा का इंतजाम हो रहा है।

260150

Bhawna 2 days 7 hours ago

क्या है पॉक्सो एक्ट?
साल 2012 में यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण के लिए पॉक्सो एक्ट बनाया गया था। इस कानून के जरिए नाबालिग बच्चों के साथ होने वाले यौन अपराध और छेड़छाड़ के मामलों में कार्रवाई की जाती है। यह एक्ट बच्चों को सेक्सुअल हैरेसमेंट, सेक्सुअल असॉल्ट और पोर्नोग्राफी जैसे गंभीर अपराधों से सुरक्षा प्रदान करता है।