You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Revel in unbridled joy through ‘Alpviraam’

We use commas quite frequently in our sentences. Have you noticed how the right use of this punctuation mark helps us take a small pause and continue? It makes the sentence ...

See details Hide details

We use commas quite frequently in our sentences. Have you noticed how the right use of this punctuation mark helps us take a small pause and continue? It makes the sentence more meaningful, cohesive and wholesome, thus adding depth to what we want to say. Commas are important, both in grammar as well as in life.

Life is a ceaseless race; from cradle to the grave. From making career choices to chasing dreams, we are on our toes, forever. In fact, we often tend to miss the good things in life because we are in pursuit of something that is trivial and inconsequential. The fear of missing the bus prevents us from stopping and appreciating things around us. This long linear race gets a pause only when we are finally hit by life.

Ever wondered what is the point of this mechanical living where, in the words of WH Davies, “What is this life, if full of care. We have no time to stand and stare.”? Why should we wait to be knocked down hard on the face by life?

Taking breaks is essential to keep life on track. Breaks help to kindle a sense of positivity and keeps the mind focused. Studies have proved that having a positive attitude makes one more productive and opens up new vistas in the corners of mind. Positive thinking helps in differentiating between living and existing. It has a comprehensive effect on our thought process and helps us strike a balance between professional, personal and social life.

Having said that, do you remember the last time you paused intentionally for yourself? Wondered if there was a time when you snoozed only to take a deep breath, walked barefoot with mind decluttered or stared at the wall without having anything to think of? The pause is not limited to taking regular breaks from our mundane routine, it is more about pausing our thoughts, our anxieties, our inhibitions and illusions. This pause is important, simply because no matter how hard we try, something will always be left behind. There will always be something to worry about and it is an unending process.

Based on the fundamental understanding of fullness in life, Anand Rajya Anand Sansthan, Madhya Pradesh, a part of Adhyatma Vibhag, runs a unique initiative ‘Alpviraam’. The programme aims at bringing a positive disposition in the outlook of individuals in general and government employees and officers in particular. This initiative encourages people to develop positive thinking in life and learn the art of taking mindful pauses. Fully aware that an overall feeling of well-being cannot stem from materialistic prosperity alone, the employees need to have a fundamental understanding of what a balanced, joyful and complete life means.

One-day Alpviraaam programmes are organized on a regular basis by the Rajya Anand Sansthan in Bhopal as well as other divisional headquarters. It has also been the endeavor of the Sansthan to make available trained volunteers called Anand Sahyogies, who conduct the Alpviraam programmes and help ushering in a positive change in the working of government offices and in the mindsets of officers. Such programmes are also conducted by trained Anandak (volunteers) in all the districts of the state for a duration of 2-3 hours.

On first and fourth Saturday of every month the Rajya Anand Sansthan organizes Aplviraam sessions from 10.30am to 2.30pm at their respective offices for all the members and volunteers. Anyone willing to participate can register at https://www.anandsansthanmp.in/

Life is too short to just whine and regret. To make it more meaningful and worthy, it is important to let your hair down and go with the flow, taking small pauses in between. Make this ‘Comma’ a part of your life to replenish your thoughts and rejuvenate your productivity. Experience the Alpviraam programme to get a new direction and purpose in life. MP MyGov invites individuals who have attended the programme to share their experiences and inspire others. Also, do not forget to suggest activities that you think could be taken up during these sessions to make it more purposeful.

Take a pause, share your thoughts and help others unwind.

All Comments
Reset
85 Record(s) Found
25360

Bhawna 5 hours 18 min ago

अगर आप भी अपनी याददाश्त को तेज़ करना चाहते हैं, काम पर ज़्यादा ध्यान देना चाहते हैं, तो ख़ुद अपने आपके दोस्त बनिए और अपने आपसे बाते कीजिए.

शुरूआत में यह थोड़ा अजीब लगेगा. लेकिन, जब इसके फ़ायदे आपके सामने आएंगे, तो यक़ीन जानिए आप ख़ुद हैरान रह जाएंगे.

25360

Bhawna 5 hours 19 min ago

रिसर्च बताती हैं कि बच्चों के विकास में ये अमल बहुत कारगर साबित होता है.

2008 में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक़, पांच साल की उम्र वाले जिन बच्चों ने अपने आप से ज़्यादा बातें कीं, वो ज़्यादा समझदार थे बनिस्बत उन बच्चों के जो उस उम्र में ख़ामोश रहते थे.

25360

Bhawna 5 hours 19 min ago

इसकी बड़ी वजह ये है कि समाज में ख़ुद से बातें करने वाले को पागल करार दिया जाता है. इसीलिए कई लोग चाहकर भी ख़ुद से बातें नहीं कर पाते.

उन्हें सनकी कहकर ख़ारिज किए जाने का डर रहता है.

25360

Bhawna 5 hours 19 min ago

ऐसा करने से वो अपने आइडिया पर ज़्यादा फोकस कर पाते हैं और अपनी प्रेज़ेन्टेशन को अच्छी तरह याद रख पाते हैं.

हम सभी के लिए हर समय ख़ुद से बात करना ना तो संभव है और ना ही हम कर पाते हैं

25360

Bhawna 5 hours 19 min ago

लिहाज़ा उन्होंने बिज़नेस कोच की मदद ली, जिसने उन्हें सबसे पहली सलाह ख़ुद से बात करने की ही दी और उन्हें इसका फ़ायदा भी हुआ.

आज जब भी उन्हें बिज़नेस की कोई प्रेज़ेन्टेशन देनी होती है तो वो सबसे पहले ख़ुद अपने आपसे बात करते हैं और अपनी प्रेज़ेन्टेशन को तेज़ आवाज़ में पढ़ते हैं.

25360

Bhawna 5 hours 19 min ago

ख़ुद से बातें करने के फ़ायदे
ब्रिटेन के यूजीन गैम्बल इसकी बड़ी मिसाल हैं. वो बरसों तक दांतों के डॉक्टर थे. एक दिन उन्होंने डॉक्टरी छोड़कर कारोबार शुरू करने का इरादा कर लिया. जबकि उन्हें कारोबार का कोई तजुर्बा नहीं था. इस वजह से यूजीन को कई बार नाकामी मिली.

25360

Bhawna 5 hours 19 min ago

2014 में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक़, जब हम किसी को तुम या वो कहकर बातें करते हैं, तो हम अपने जज़्बात पर जल्दी काबू कर लेते हैं. क्योंकि ऐसे में हम खुद एक दूसरी शख़्सियत बनकर अपने को ही समझाते हैं.

25360

Bhawna 5 hours 20 min ago

सबसे अहम ये है कि जो हमें समझ सकें. जो ख़ासियतें हम दूसरों में तलाशते हैं, वो हम अपने अंदर हासिल कर सकते हैं.

आख़िर ख़ुद को इंसान सबसे अच्छे से जानता है. जब हम ख़ुद से बाते करने लगते हैं तो बहुत हद तक हम अपने अंदर ही उन्हें तलाश लेते हैं.

ऐसे में हम ख़ुद अपने आप को ही सबसे ज़्यादा दिलचस्प शख़्सियत पाते हैं और हमारी ख़ुद से दोस्ती हो जाती है.

25360

Bhawna 5 hours 20 min ago

ब्रिटिश मनोवैज्ञानिक और लेखिका एनी विल्सन का कहना है कि वो अपने सभी क्लाइंट्स को ख़ुद से बातें करने की सलाह देती हैं.
अगर उनके किसी मरीज़ को बहुत गुस्सा आता है, तो वो उसे भी यही सलाह देती हैं, क्योंकि ऐसा करने से मसले का हल निकल आता है और गुस्सा ग़ायब हो जाता है.

एनी विल्सन कहती हैं- हम हमेशा चाहते हैं कि हमारे आसपास वो लोग रहें जो हमसे ज़्यादा ज्ञानी हों, जिनसे हमें कुछ सीखने को मिल सके.

25360

Bhawna 5 hours 20 min ago

इसी तरह का प्रयोग उन्होंने किराने की दुकान पर भी किया. जिन लोगों ने सब्ज़ियों की तस्वीर देखकर उनका नाम तेज़ आवाज़ में पुकारा था, स्टोर में वही सब्ज़ी तलाशने में उन्हें आसानी हुई.

प्रोफेसर गैरी का कहना है कि जब हम किसी चीज़ का नाम अपनी ज़ुबान से तेज़ आवाज़ में लेते हैं तो उसकी तस्वीर हमारे ज़हन में बन जाती है. हमारा दिमाग़ ख़ुद-ब-ख़ुद ज़रूरत पड़ने पर उसे हमारे ज़हन में ज़िंदा कर देता है.