You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Suggest for MP Budget 2022

Start Date: 03-01-2022
End Date: 24-01-2022

जनता की सहभागिता से तैयार जनता का बजट

...

See details Hide details


जनता की सहभागिता से तैयार जनता का बजट

एक उन्नत और सफल राज्य स्थापित करने में बजट का महत्वपूर्ण योगदान होता है। सुनियोजित बजट प्रदेश की सफलता में महत्वपूर्ण सहयोग प्रदान करता है। बजट द्वारा राज्य शासन की नीतियां को योजनाओं के माध्यम से गति प्रदान की जाती है, जिससे योजनाओं का लाभ आम जनता को प्रदान किया जाता है।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह का भी मानना है कि बजट केवल आय-व्यय का ब्योरा नहीं है, जन-आकांक्षाओं की पूर्ति का माध्यम है। समृद्ध और विकसित मध्य प्रदेश का निर्माण बजट के माध्यम से ही होता है। आत्मनिर्भर भारत के लिए आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश और जनता की आकांक्षाओं की पूर्ति हमारे बजट का उद्देश्य है। बजट बनाने के लिए सरकार विशेषज्ञों से भी राय लेती है लेकिन मुख्यमंत्री का मानना है कि जनता से बड़ा विशेषज्ञ कोई नहीं है। इसलिए उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील की है कि 2022-23 के बजट के लिए कोई सुझाव हो, तो वह mp.mygov.in के माध्यम से भेजें। जनता के हर एक सुझाव का अध्ययन किया जाएगा और जो प्रस्ताव स्वीकार किए जा सकेंगे, वह जरूर बजट में जोड़ने का प्रयास होगा।

कृपया अपने सुझाव 24 जनवरी 2022 तक साझा करें।

आप अपने सुझावों के साथ अपना नाम, शहर, जिला और पिनकोड अवश्य लिखें।

आप निम्न माध्यम से अपना सुझाव दे सकते हैं:-
1. MPMyGov Portal
2. Email id: budget.mp@mp.gov.in(link sends e-mail)
3. डाक / कुरियर के माध्यम से
पता:
संचालक, बजट
वित्तीय प्रबंध सूचना प्रणाली
218-एच, द्वितीय तल, वित्त विभाग, मंत्रालय
भोपाल, मध्यप्रदेश 462004
Address:
Financial Management Information System,
Finance Department
218-H, Second Floor, Mantralaya, Bhopal
Pin Code 462 004
4. Toll free number - 0755-2700800

All Comments
Reset
1792 Record(s) Found
0

Omprakash Prajapati 5 hours 3 min ago

मप्र में जो अतिथि शिक्षक 5 वर्ष पूर्ण कर चुके हैं उनकी विभागीय परीक्षा लेकर वर्गानुसार वर्ग 1 को -18000₹,वर्ग2-15000 और वर्ग3-12000 पर ही नियमित करदे सरकार ,एक सुरक्षित भविष्य के आधार पर 12 माह का सेवाकाल सरकार जल्द घोषणा करें-ओपी प्रजापति मो-9713098899/9425662362

400

Rupesh Singh Rathore 5 hours 15 min ago

अतिथि शिक्षको को गुरुजी की तर्ज पर नियमित किया जाय एसा प्रावधान आपके बजट मे शामिल करे।

0

Jitendramali 5 hours 22 min ago

#बजट_मप्
#अतिथि_शिक्षकों को वर्तमान मानदेय पर नियमित करें जिससे सरकार पर #वित्तीयभार नहीं आयेगा,70हजार अतिथिशिक्षकों को #रोजगार मिल जायेगा!
अतिथि शिक्षक 3वर्ष इसी वेतन पर सेवा का सपथपत्र देने को तेयार है.
#ChouhanShivraj #OfficeOfKNath #jitupatwari #PMOIndia #Indersinghsjp

0

SunilKumar 5 hours 29 min ago

मध्यप्रदेश सरकार अतिथि शिक्षकों को रूप से समय पर वेतन देवे एवम् गुरुजी की तरह उन्हें भी नियमित करे माननीय मुख्यमंत्री जी ध्यान देवे धन्यवाद्

3400

Haradesh Kumar Shukla 5 hours 38 min ago

एमपी में शिक्षा का स्तर दिनों दिन गिरता जा रहा है। अन्य राज्यों की तुलना में मध्यप्रदेश में शिक्षा और उसकी सभी विभागों का प्रदर्शन औसत दर्जे का भी नहीं रहा अब सरकार को चाहिए कि पर्याप्त मात्रा में अपने नवा चारों को और शिक्षा के क्षेत्र में विशेषकर स्कूली शिक्षा के क्षेत्र में व्यापक उपाय किए जाए हमारे प्रदेश में शिक्षक भर्तियां शिक्षा की गुणवत्ता विद्यार्थियों के विकास के लिए कोई ठोस उपाय नहीं किए जा रहे हैं विद्यालय दिनोंदिन सिकुड़ते जा रहे हैं शिक्षकों की भर्ती गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दी जाय।

0

Abhishekshrivastava 6 hours 3 min ago

स्कूल में कार्यरत #अतिथिशिक्षक प्राथमिक ,माध्यमिक ,हाई सेकेंडरी अतिथि शिक्षक का मानदेय वृद्धि कीजिए अतिथि शिक्षक पद रिक्त न मानकर,बेरोजगार न करें,कार्यरत को यथावत रखकर12माह सेवाकाल ,भविष्य सुरक्षितकरे अतिथि शिक्षक की विभागीय परीक्षा लेगा उनको नियमित करें

0

AshokKumar 6 hours 18 min ago

माननीय मुख्यमंत्री जी अतिथि शिक्षकों को नियमित कीजिए
इस बजट सत्र में अतिथि शिक्षकों के नियमतीकरण को प्राथमिकता दीजिए
आपसे विनम्र निवेदन है

0

AshokKumar 6 hours 18 min ago

माननीय मुख्यमंत्री जी अतिथि शिक्षकों को नियमित कीजिए
इस बजट सत्र में अतिथि शिक्षकों के नियमतीकरण को प्राथमिकता दीजिए
आपसे विनम्र निवेदन है

100

Vikash indoriya 6 hours 22 min ago

सरकारी नौकरी के पात्र अभ्यर्थियों को 2 बच्चे तक छूट है अगर 3 या इससे अधिक बच्चे होते हैं तो वह अपात्र होता है! अगर शासन ऐसा नियम लाऐ कि सरकारी योजनाओं का लाभ वही उठा सकता है जिसके 2 बच्चे हो और 2 से अधिक बच्चे हैं तो ऐसे परिवार को सरकारी योजनाओं का लाभ प्राप्त नहीं होगा!
ऐसा करने से खर्च भी कम होगा और जनसंख्या वृद्धि पर भी रोक लगेगी