You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Ujjain_An Ancient City

Start Date: 07-09-2019
End Date: 30-11-2019
Ujjain - an Ancient City in the Heart of India | उज्जैन, मध्यप्रदेश
All Comments
Discussions on This Talk
Comments closed for this talk.
Reset
311 Record(s) Found
121240

tripti gurudev 3 months 6 days ago

पुराणों मे सप्तपुरी यानि सात मोक्षदायिनी नगरियों का वरणन है,उसमे उज्जैन भी शामिल है।

121240

tripti gurudev 3 months 6 days ago

कर्क रेखा उज्जैन से मात्र तीन किलोमीटर की दूरी पर मैजूद है। शायद इसलिए राजा जयसिंह ने यहाँ वेधशाला की स्थापना की थी।

121240

tripti gurudev 3 months 6 days ago

शहर मे स्थित जंतरमंतर मे खगोल से सम्वन्धित जानकारी दी जाती है।जंतरमंतर का निर्माण राजा जयसिंह ने करवाया था। वह एक महान विद्वान थे, जिन्होंने खगोलशास्त्र से जुडी कयी पुस्तकें लिखने का काम किया। राजा जयसिंह द्वारा ही जंतरमंतर मे उपकरण लगवाए गए थे।

121240

tripti gurudev 3 months 6 days ago

उज्जैन मध्य भारत का महत्वपूर्ण वाणिज्यिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक केंद्र रहा है उज्जैन अध्ययन अध्यापन का भी प्राचीन केंद्र बिंदु है।

21380

Rahul 3 months 1 week ago

उज्जैन नगर निगम स्वच्छता अभियान को आगे बड़ा रहा है।महाकाल मंदिर के आसपास की सफाई व्यवस्था अच्छी है।शिप्रा नदी भी अपने सुंदर और मनोरम दृश्यों को निखार रही है।

121240

tripti gurudev 3 months 1 week ago

उज्जैन के महाकुंभ की महत्ता सम्पूर्ण विश्व एवं भारत मे प्रसिद्ध है।

121240

tripti gurudev 3 months 1 week ago

तीनों लोकों आकाश, पाताल एवं भूमण्डल अलग-अलग अधिपतियों मे समस्त मृत्युलोक के अधिपति के रूप मे महाकाल भगवान हैं।

121240

tripti gurudev 3 months 1 week ago

पुराणो, महाभारत और कालिदास जैसे महाकवियों की रचनाओं मे उज्जैन के महाकाल मंदिर का मनोहर वरणन मिलता है।

121240

tripti gurudev 3 months 2 weeks ago

ज्योतिष के जानकारों का मानना है कि तय तिथि, तय दिन और पुण्य मुहुर्त के अनुसार ही पंचकोसी यात्रा और तीर्थ स्थलों पर की गई पूजा अर्चना करने का महान पुण्य प्राप्त होता है।

121240

tripti gurudev 3 months 2 weeks ago

पंचकोसी यात्रा मे सभी ज्ञात अज्ञात देवताओं की प्रदक्षिणा का पुण्य इस पवित्र मखस मे मिलता है। उज्जैन की प्रसिद्ध पंचकोसी यात्रा मे आने वाले देव पिंगलेश्वर, कायावरूनेश्वर,विवेश्वर,नीलकंठेश्वर हैं।