You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

आइए बच्चों को 'पॉक्सो ई-बॉक्स' पर अपनी शिकायत दर्ज करने के लिए प्रोत्साहित करें

बच्चों को कोई गलत तरीके से छूता है, गन्दी बातें करता है और गन्दी ...

See details Hide details

बच्चों को कोई गलत तरीके से छूता है, गन्दी बातें करता है और गन्दी तस्वीरें दिखाता है, बावजूद इसके बच्चे अपने परिजनों से इस बात को कहने से डरते हैं, तो बच्चों से कहें कि घबराइये नहीं राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग आपके साथ है। यह हमारा कर्तव्य बनता है कि हम आपकी मदद करें और दोषियों को पोक्सो (POCSO) एक्ट के तहत` सज़ा दिलाएं। इसके लिये राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के द्वारा POCSO e-box बनाया गया है। इस POCSO e-box से शोषण का शिकार होने वाले बच्चे बिना किसी को बताये स्वयं ऑनलाइन शिकायत दर्ज कर दोषियों को सज़ा दिला सकते हैं।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एन-सी-पी-सी-आर.) के गठन का उद्देश्य प्रदेश में बाल अधिकारों का संरक्षण सुनिश्चित करना है। एक ऐसी व्यवस्था स्थापित करना है जो बच्चों के हित में सभी कानूनी प्रावधानों, उनके संरक्षण और विकास के लिए चलाई जा रही समस्त योजनाओं की सटीकता, सम्पूर्णता और प्रभावशीलता की निगरानी कर सके ताकि प्रदेश में बच्चों के लिए सकारात्मक और खुशहाल वातावरण निर्मित हो सके।

जानिए पोक्सो एक्ट के बारे में


पोक्सो (POCSO) एक्ट का पूरा नाम “प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्राम सेक्सुअल ऑफेंसेस” ये विशेष कानून सरकार ने साल 2012 में बनाया था। इस कानून के जरिए नाबालिग बच्चों के साथ होने वाले यौन अपराध और छेड़छाड़ के मामलों में कार्रवाई की जाती है। यह एक्ट बच्चों को यौन उत्पीड़न (sexual harassment) यौन हमला (sexual assault) और पोर्नोग्राफी (pornography) जैसे गंभीर अपराधों से सुरक्षा प्रदान करता है। हाल ही में इस एक्ट में बदलाव किया गया है, जिसके अनुसार अगर 12 साल तक की उम्र की बच्ची के साथ दुष्कर्म होता है तो दोषियों को मौत की सजा दी जाएगी।

महिला एवं बाल विकास विभाग, मध्यप्रदेश, राज्य के नागरिकों से अपील करता है कि बच्चों को POCSO e-box के बारे में जागरूक करें और बच्चों को शोषण का शिकार होने से बचाएं। इस संदर्भ में अपने महत्वपूर्ण सुझाव/विचार हमसे साझा करें।

All Comments
Reset
24 Record(s) Found

Devendra Baghel 18 hours 25 min ago

मध्यप्रदेश सरकार का सहरानीय काम है इस बात को जन जन तक पहुँचना चाहिए जिससे लोगों को पता चल सके पोक्सो एक्ट के बारे में ।

Vinod Vaishnav 3 days 18 hours ago

इस ज्ञानवर्धक जानकारी देने के लिए मध्यप्रदेश सरकार का धन्यवाद। इस कानून के बारे में लोगो को जागरूक करने के लिए ऑनलाइन-प्रतियोगिता, रैली, वह लोक- जागरूकता अभियान चलाया जाना चाहिए।

satish mewada 5 days 6 hours ago

पॉक्सो ई-बॉक्स की जानकारी के लिये स्कूल, आंगनवाड़ी तथा अनाथालय में सप्ताह मे एक दिन क्लास लगाकर अधिकारीगण इसकी जानकारी बच्चो को दे या नाटक (Play) द्वारा भी इसे समझाया जा सक्ता है ।
पॉक्सो ई-बॉक्स बच्चो के साथ हो रही घटना के लिये एक अच्छी व्यव्स्था है, किन्तु कोई बच्चो के साथ इस तरह की हरकत ही ना करे उसके लिये सर्वप्रथम शराब और द्वितीय इंटरनेट पर पोर्न वीडियो साईड पूर्णत: प्रतिबन्धित की जानी चाहिये। ये हमारे समाज को गलत दिशा मे लेकर जा रहे है ।

Buddhasen Patel 6 days 9 hours ago

दुष्कर्म की सबसे जायदा घटना MPमें हो रही है@इससे प्रभावित परिवार सरकार से बहुत नाराज है @BJP इस अवसर को अपने पच्छ में करना चाहिये |दुष्कर्म के पीछे शोसल मीडिया इंटरनेट में प्रवाहित गंदे अश्लील पोर्न Porn Videoहै @इससे इंटरनेट कंपनी GOOGLE,YOU Tube,Facebook,Whatsabजैसी कंपनीयो को भारी मुनाफा हो रहा है|इसके उल्ट हमारे देश ,प्रदेश का पूरा समाज दुष्कर्म की चपेट में है|सरकार नीद में है|अश्लील PornVedeo के रोक लगाम के लिए www.hindislogans.comकीstudentoकी प्रोफेसनल टीम technical प्रोजेक्ट BJP को देगी

Sunil_457 1 week 1 day ago

यह बहुत ही अच्छा कदम है । जिससे कि बच्चों की सुरक्षा की जा सकती हैं।मेरी राय यह है की आंगबाड़ी में तथा स्कूलों में pocso e-box के बारे में जानकारी विभिन्न कार्यक्रम के तहत देना चाहिए ।

बच्चो को शिक्षा के माध्यम प्रेरित करना चाहिए कि वह इस तरह बेटे अपने माता पिता खुल कर कह सके ।इसके लिए बछो की प्राथमिक शिक्षा में ही जागरूकता होनी चाहिए । जिससे कि वह इन बटो को खुल कर अपने घर में बताए।।

Anil Patel 1 week 3 days ago

सैनेटरी पैडमैंन पर मुख्यमंत्री शिवराज चौहान से सिधी बातचीत की you Tube Link https://youtu.be/ZWeihnklzEE देश की सभी महिलाओ को सेनेटरी पैड Free मुफ़त मे देना चाहिए & सभी तरह के टेक्स GST फ्री होना चाहिए, अथवा न्यूनतम दामों मे सरकारों को उपलब्ध करबाना चाहिए |माननीय मोदीजी PM India श्रीमान माननीय SHIVRAJ Singh Chouhan C.M (M.P) को हमारा यह फीडबैक नई दिशा देगा @ आप भारत की महिलाओं के लिये इतिहास पुरष बन सकते है| आप भारत के अजेय पोलिटिकल लीडर बन जायगे सेनेटरी पैड Free मुफ़त मे देने से |

Anil Patel 1 week 3 days ago

ठेकेदारी से कम्पनीओCompanyको भारी फायदा है @इसके विपरीत ठेकेदारी से कम्पनीओ को भारी फायदा है @इसके विपरीत लोगो का पूरा का पूरा जीवन ठेकेदारी में नौकरी करते खत्म हो जाता है|MAKE IN INDIA,PMKY जैसी योजनाओ का कंपनी या गलत इस्तेमाल कर रही है|इस स्कीम की पीएमओ को पुनर समीछा करने की तुरंत जरुरत है | Yang student Genration ठेकेदारी से बहुत - बहुत नाराज परेशान है|इसका खामियाजा चुनाव 2019 M.P ELAXION2018 में बीजेपी को उठाना पड़ सकता है|सरकार द्वारा नीम प्रोजेक्ट पर नौकरी में भर्ती करyang वरोजगा

Raju Verma 1 week 3 days ago

It's a good initiative. However, it is necessary to inform the general public about the POCSO e-box through various channel of communication i.e. news papers/television/radio etc.
In addition to above, it is more important to take action against the offenders. It can be seen that every Govt. Agency in MP forces the conman public to move from pillar to post and never take any action against criminals,the fact is that in most of the cases they force the sufferer to compromise with the criminal.

Abhishek kumar 1 week 4 days ago

बच्चों को कोई गलत तरीके से छूता है, गन्दी बातें करता है और गन्दी तस्वीरें दिखाता है, बावजूद इसके बच्चे अपने परिजनों से इस बात को कहने से डरते हैं, तो बच्चों से कहें कि घबराइये नहीं राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग आपके साथ है। यह हमारा कर्तव्य बनता है कि हम आपकी मदद करें और दोषियों को पोक्सो (POCSO) एक्ट के तहत` सज़ा दिलाएं। इसके लिये राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के द्वारा POCSO e-box बनाया गया है। इस POCSO e-box से शोषण का शिकार होने वाले बच्चे बिना किसी को बताये स्वयं ऑनलाइन शिकायत दर्ज

Manu Basnt 1 week 5 days ago

FacebookTwitter
बच्चों को कोई गलत तरीके से छूता है, गन्दी बातें करता है और गन्दी तस्वीरें दिखाता है, बावजूद इसके बच्चे अपने परिजनों से इस बात को कहने से डरते हैं, तो बच्चों से कहें कि घबराइये नहीं राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग आपके साथ है। यह हमारा कर्तव्य बनता है कि हम आपकी मदद करें और दोषियों को पोक्सो (POCSO) एक्ट के तहत` सज़ा दिलाएं। इसके लिये राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के द्वारा POCSO e-box बनाया गया है। इस POCSO e-box से शोषण का शिकार होने वाले बच्चे बिना किसी को ब