You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

आनंद उत्‍सव - मध्य प्रदेश (14-28 जनवरी, 2019)

अपने आनंद के अनुभव हमारे साथ साझा करें और जीतें 1,00,000/- तक का ...

See details Hide details

अपने आनंद के अनुभव हमारे साथ साझा करें और जीतें 1,00,000/- तक का पुरस्कार

सोचिए कैसा हो... यदि आपको आपकी पसंद की गतिविधियों में सम्मिलित होने के लिए एक उत्सव का आयोजन किया जाये... और उसमें ली गयी फोटो व वीडियो को पुरस्कार भी मिले!

लोक संगीत, नृत्य, गायन, नाटक तथा खेलकूद की गतिविधियां हमारे परिपूर्ण जीवन की एक महत्वपूर्ण कड़ी है। इसी मान्यता के आधार पर ‘आनंद उत्सव’ की परिकल्पना की गई है। विगत वर्षों की भांति इस वर्ष भी राज्य आनंद संस्थान पूरे प्रदेश में पंचायत और नगरीय विकास विभाग के सहयोग से दिनांक 14 से 28 जनवरी 2019 के दौरान आनंद उत्सव 2019 मना रहा है।

आनंद उत्सव का मुख्य उद्देश्य सभी नागरिकों में सहभागिता एवं उत्साह को बढ़ाने के लिए सामूहिक स्तर पर विभिन्न प्रकार के खेल-कूद और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन कराना है। क्योंकि आनंद उत्सव की मूल भावना प्रतिस्पर्धा नहीं बल्कि सभी की सहभागिता है।

राज्य आनंद संस्थान द्वारा ‘आनंद उत्सव’ कार्यक्रम के लिए एक फोटो एवं वीडियो शेअरिंग प्रतियोगिता आयोजित की जा रही है, जो ‘आनंद उत्सव’ की गतिविधियों पर आधारित होगी । इसके लिए आपको उत्सव के दौरान अपने कैमरा में कैद किये गए आनंद के पलों के फोटो या वीडियो शेयर करने होंगे। कोई भी नागरिक इस प्रतियोगिता में भाग ले सकता है। विजेता प्रतिभागियों को निम्नानुसार पुरस्कार राशि प्रदान की जाएगी। अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।

पुरस्कार:: प्रथम - द्वितीय - तृतीय
फोटो:: 25,000 - 15,000 - 10,000
वीडियो:: 25,000 - 15,000 - 10,000

मन को आनंदित करने वाले ‘आनंद उत्सव’ में आपने हिस्सा लिया...! यदि नहीं...तो इस बार ‘आनंद उत्सव’ में सहभागिता अवश्य करें एवं आनंद के अनुभव को हमसे MP MyGov पर साझा करें।

All Comments
Reset
31 Record(s) Found

Syed mohd Faiz 4 months 3 weeks ago

मैं 12 कक्षा पास करने के बाद कालेज गया तब मुझे पता चला कि जिंदगी में कठीन परिश्रम करके ही हमें सफलता हासिल होती है। इसलिए हमें परिश्रम से डरना नहीं चाहिएऔर
जो परेशान और है उसकी मदद करनी चाहिए

madangopal koushik 4 months 3 weeks ago

अनुभूति सुख की है; एक अनुभूति आनंद की है। सुख की और दुख की अनुभूतियां बाहर से होती हैं। बाहर हम कुछ चाहते हैं, मिल जाए, सुख होता है। बाहर हम कुछ चाहते हैं, न मिले, दुख होता है। बाहर प्रिय को निकट रखना चाहते हैं, सुख होता है; मिलना हो जाए, दुख होता है; प्रिय से बिछुड़ना हो जाए, तो दुख होता है। बाहर जो जगत है उसके संबंध में हमें दो तरह की अनुभूतियां होती हैं–या तो दुख की, या सुख की।

आनंद

Parmanand Chared 4 months 3 weeks ago

आनन्द एक वो पल है जो आपकी जिंदगी खुशियो से भर देती है| मेरी जिन्दगी का आनन्द का पल वो था जब मे पहली बार रेल यात्रा की थी | उस समय मे अपनी 12वी की परिषा उतीर्ण करके आगे की पढाई के लिए भोपाल के लिए निकला था| उस समय मेरे मन मे एक अलग सा उत्साह था| एक प्रोपेसर थे जिनके कहने पर मे भोपाल मे इंजिनियरिंग के लिए आया था|
वो मेरी जिंदगी का सबसे यादगार पल था|