You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

आनंद कैलेण्‍डर : आइए अपनी खुशियों को अंकित करें

मनुष्य का वास्तविक स्वभाव है- प्रेम, प्रसन्नता, सदभाव और शांति… ...

See details Hide details

मनुष्य का वास्तविक स्वभाव है- प्रेम, प्रसन्नता, सदभाव और शांति… अक्सर हमने सुना है कि प्रसन्न रहना हम सभी के स्वास्थ्य के लिए अच्छा है, लेकिन हम इस बात से अनभिज्ञ हैं कि आखिर आनंदित रहने का रहस्य क्या है?

दरअसल, हम दूसरों को देखकर और उनसे अपनी तुलना करके अपनी खुशी तय करने लगते हैं। हो सकता है कि खुशी के लिए कुछ बाहरी भौतिक तत्व प्रेरक का काम करते हों, लेकिन सच यही है कि आनंद हमेशा हमारे अंदर से ही आता है। आनंद प्राप्त करने के लिए कोई उपलब्धि या वस्तु प्राप्त करने की आवश्यकता नहीं है। आनंद तो कुछ भी करके प्राप्त किया जा सकता है जैसे किसी की मदद, कोई खेल, नई चीजें सीख कर, कुछ नया करके या फिर हम अनायास ही प्रसन्न रह सकते हैं। प्रसन्न रहने के लिए क्या किया जाना चाहिए, यह जानते हुए भी कई बार हमारा ध्यान उन क्रियाओं/अभ्यासों को करने में नहीं जा पाता। कितना अच्छा हो कि कोई हमें याद दिलाए कि हम क्या करें? हमने क्या किया और कितना किया! कैसा महसूस किया...!

राज्य आनंद संस्थान ने हमारी ऐसी गतिविधियों में मदद के लिए आनंद कैलेण्‍डर को विकसित किया है। इस कैलेण्‍डर के माध्यम से हम उन गतिविधियों को आसानी से रेखांकित कर सकते हैं, जो हमें प्रसन्न रहने में मदद करती हैं। दरअसल, यह कैलेण्‍डर इस सोच के साथ तैयार किया गया है कि हम प्रसन्न रहने के लिए पर्याप्त अभ्यास करें। इस आनंद कैलेण्‍डर में यह बताने का प्रयास किया है कि आनंददायक कार्यो और अभ्यासों को कैसे और किस पुनरावृत्ति में किया जाए, और कैसे उनका अवलोकन किया जाए।

आनंद कैलेण्‍डर राज्य आनंद संस्थान की वेबसाइट www.anandsansthanmp.in से ऑनलाईन नि:शुल्क डाउनलोड किया जा सकता है। इसके अलावा आप गूगल प्ले स्टोर से इसका मोबाइल एप्प भी नि:शुल्क डाउनलोड कर सकते है। यदि आप आनंद कैलेण्‍डर की फुल साइज छपी हुई प्रिंट चाहते हैं, तो राज्य आनंद संस्थान से सम्पर्क कर सकते हैं ।

आइए हम सभी आनंद संस्थान द्वारा विकसित ‘आनंद कैलेण्‍डर’ का उपयोग करें; साथ ही इसके उपयोग से स्वयं को प्रसन्न रखने वाली गतिविधियों को रेखांकित करें और इस कैलेण्‍डर के उपयोग के बारे में अपने अनुभव व विचारों को MP MyGov के साथ साझा करें।

All Comments
Reset
16 Record(s) Found

Harshvardhan Dubey 2 months 3 weeks ago

आंनद कलेंडर में 12 महीने के पेजो में उस महीने के बड़े त्योहार से सम्बन्धित चुटकुला या हंसी मजाक जैसे व्यंग्य आदि का समावेश होना चाहिए जिससे हमारा मन आनंदित हो सके।

RAVI KHAVSE 3 months 2 days ago

आनंद कैलेण्डर की मदद से हम अपने आनंद की दिनचर्या निर्धारित कर सकते हैं।

  •