You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना पर नागरिकों के सुझावों का आमंत्रण

एक समय आता है जब उम्र के साथ-साथ रिश्ते-नाते भी छूटने लगते हैं, घरों ...

See details Hide details

एक समय आता है जब उम्र के साथ-साथ रिश्ते-नाते भी छूटने लगते हैं, घरों में बुजुर्ग उपेक्षा के शिकार होने लगते हैं और धन अर्जित न करने की असहनीय पीड़ा उन्हें ग्रसित करने लगती है। इसके साथ ही उम्र के इस पड़ाव में बीमारियां भी दामन थामने लगती हैं। इन्हीं कारणों को देखते हुए प्रदेश में भारत सरकार, ग्रामीण विकास मंत्रालय, ग्रामीण विकास विभाग द्वारा राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम (NSAP) के अंतर्गत गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले वृद्धों को आर्थिक सहायता प्रदाय करने के उद्देश्य से इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना संचालित की जा रही है। योजना का क्रियान्वयन एवं संचालन म०प्र० शासन, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्‍तजन विभाग द्वारा किया जा रहा है।

सामाजिक न्याय एवं निशक्तजन कल्याण विभाग द्वारा गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले वृद्धजनों को जीवन यापन करने हेतु सम्मानपूर्वक आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। योजना का क्रियान्वयन राज्य सरकार और केंद्र सरकार दोनों की ओर से किया जाता है।

बता दे कि गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के वृद्ध इसके लिए पात्र होंगे। जिसके अंतर्गत 60 वर्ष से 79 वर्ष तक आयु के हितग्राहियों को प्रतिमाह रुपये 300/- (रु. 100/- राज्यांश + रु. 200/- केन्द्रांश) की दर से पेंशन प्रदाय की जाती है और 80 वर्ष या इससे अधिक आयु के हितग्राहियों को प्रतिमाह रुपये 500/-(केन्द्रांश) की दर से इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन प्रदाय की जाती है। इस योजना के तहत वर्ष 2017-18 तक 13,844,841 हितग्राहियों का लाभान्वित किया गया है।

इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना को वृद्धों के लिये और कैसे लाभदायी बनाया जा सकता है? आप अपने महत्वपूर्ण सुझाव और प्रतिक्रियाएं हमें भेज सकते हैं।

All Comments
Reset
37 Record(s) Found

Nilesh Agase 10 months 2 weeks ago

सर अगर वास्तव में वृद्ध जनो का कल्याण करना है तो पेेंशन की राशी कम से कम 1500 रु प्रतिमाह की जाए ताकि वृद्ध जनो का कल्याण हो सके, ओर दिव्‍यांगाेे को कम से कम 1000 रु की राशी दिया जाये ताकि वे अपना भविष्‍य में कोई भी परेशानीी न हो, 300 रु में क्‍या होता है एक फार्म ही भ्‍ारो तो 300 रू से भी ज्‍यादा लग जाते है तो वह अपनी बाकी दिन भोजन व्यवस्था कैसे कर पाएगा........

radheshyam vishwkarma 10 months 2 weeks ago

Sir madhya pradesh mein bhujurg pensan ke sabhi district mein yahi hall hai agar madhya pradesh mein bharstachar mitana hai to koi thos kadam utatana hoga tabhi bharstachar par rok lag sakegi kyonki sabhi district mein bhujurgo ki paristhiti esi hain ki unhe sahi dhang se pensan bhi nahi mil pa rahi hai bane jate hai to bank wale kahte hai ki kal aana ese mein un bhujurgo ka kya hoga jo pensan ke uper nirbhar hai?agar is prakar ke bharstachar ko mitana hai to sarkar ko thos kadam hoge?

Sher ali 10 months 2 weeks ago

महाशय,
ये पेंशन योजना बहुत ही अच्छी योजना है।लेकिन इसके अंतर्गत बहुत ही कम राशि अभी मिल रही है। कम से कम 1800 रुपये मिलने चाहिए। जिससे कि बुज़ोर्गो का भला हो सके।

radheshyam vishwkarma 10 months 3 weeks ago

Sir kai rajyo me pensan adhik hai gujrat ho ya maharastmra lekin sir agar pensan milti bhi hai to bank vale kahte hai 2month ki pensan ek sath nahi dhete?

Ashwini Verma 10 months 3 weeks ago

this pension should be given to all the aged. gov is providing it to only them havving bpl card . what about others my people are there whose son have apl card so they dint get pension. but the actul sitution edged people of apl also need it

CHANDRA KISHOR GOSWAMI 10 months 3 weeks ago

महोदय, निवेदन है कि अगर वास्तव में वृद्ध जनो का कल्याण करना है तो पेंसन की राशी कम से कम 1500 रु प्रतिमाह की जाए ताकि वृद्ध जनो का कल्याण हो सके, 300रु की राशी के लिए उन्हें परेशान न किया जाए, 300 रु मतलब केवल 3 दिन की भोजन व्यवस्था बाकी के पूरे दिन कैसे चला पाए कोई, इससे अच्छा है कि या तो 1500रु दिया जाये अन्यथा कुछ न दिया जाये तो वे बेचारे और कुछ उपाय कर के रोज का भोजन पा सकेl पेंशन राशी हितग्राही को पोस्ट ऑफिस के माध्यम से निशित समय सीमा में सीधे उस व्यक्ति तक उसके घर पहुचाया जाए l
धन्यवाद

kapil patidar_2 10 months 3 weeks ago

जिला बडवानी जिला मुख्यालय से 10 किलो मीटर दुर ग्राम बोरलाय तेह+जिला बडवानी भारतीय स्टेट बैंक बोरलाई मे वृद्धजनो को पेंशन कि राशी बैक खाते से निकालने मे बैक मे दिनभर इंतज़ार करना पडता है और वृद्धजन के परिजन मजदूरी नही जा पाते है विन्रम अनुरोध है कि भारतीय स्टेट बैक बोरलाय तेह+जिला बडवानी पर बैंक स्टाप बढ़ाने कि कृपा करे ताकि वृद्धजनो को पेंशन राशी लेने मे असुविधा न हो जल्द से जल्द बैक स्टाप भेजे
कपिल पाटीदार स्वयंसेवक RSS

Anil Patel 10 months 3 weeks ago

विषय -वोटर कार्ड प्रक्रिया सरल बनाने हेतु (VOTAR CARD Online बनाने हेतु) |
सेवा मे,.वर्तमान मे मतदाता पहचान पत्र (वोटर कार्ड) बनवाने की प्रक्रिया बड़ी जटिलVery Complecated और अत्यधिक समय लेने वाली हे|जिससे की आम इंसान परेशान होता है ओर वह वोटर कार्ड नही बनवाता है | || जिसमे की लोकतंत्र को नुकसान है||श्री नरेंद्र मोदीजी के सबसे प्रिय यंग पर्सन वोटर कार्ड के आ भाव में वोट देने से वंचित रहेगे जो बीजेपी को बहुत बड़ा नुकशान है|ओर तो ओर रू25 Ruppes का चालन SBI Bank में जमा करने के लिए के

sourabh 10 months 3 weeks ago

सर 85साल से अधिक वृद्ध ज्यादा तर चल-फिर नहीं सकते जिससे उन्हें पेंसन प्राप्त करने में कई बार बैंको के चक्कर काटने पड़ते होंगे अतः आप उन्हें उनके घर पेंसन पोस्ट करा सकते तो वो आपको आशीर्वाद जरूर देंगे और वे भी जो आपने पैर से खड़े ही नहीं हो पाते हे उन्हें भी कुछ लाभ ही होगा सर

Naresh verma 10 months 3 weeks ago

इस योजना से सम्बंधित NSAP कुछ सुझावों को अपना सकती है-

1.शासन यह सुनिष्टित करे कि योजना का लाभ वृद्धजनों को मिल रहा है या नही। भृष्ट अधिकारियों पर रोक तथा पेशन का सीधा लाभ वृद्धजनों को मिले।

2. प्रचार-प्रसार ( टेलीविज़न,सोशल मीडिया,रेडियो,बैनर आदि) के माध्यम से वृद्धजनों को इससे अवगत किया जाए।

3. योजना में प्रवेश के नियम सरल बनाये जाए क्योंकि अधिकांश लोग योजना की जटिलता को समझ नही पाते और वे वंचित रह जाते।

उपरोक्त के अतिरिक्त असहाय वृद्जनो को यह आश्वासन दिया जाए कि शासन उनके साथ है।