You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

छात्र परामर्श प्रणाली द्वारा छात्रों के मानसिक तनाव को दूर करने हेतु आपके सुझाव आमंत्रित हैं

अक्सर देखा जाता है कि परीक्षा के पूर्व एवं परीक्षा के समय छात्रों ...

See details Hide details

अक्सर देखा जाता है कि परीक्षा के पूर्व एवं परीक्षा के समय छात्रों और उनके अभिभावकों का मानसिक तनाव बढ़ने लगता है और यही स्थिति अक्सर परीक्षा परिणामों के पूर्व एवं परीक्षा परिणामों के पश्चात् करियर को लेकर रहती है। परीक्षा चाहे किसी भी तरह की हो छात्र और अभिभावक हमेशा परीक्षा की तैयारी, रेंक और अंकों को लेकर तनावग्रस्त रहते हैं। अत्यधिक तनाव लेने से छात्रों को विभिन्न प्रकार की मानसिक बीमारी जैसे - नींद की समस्या, थकान, घबराहट, माइग्रेन और अन्य बीमारियाँ घेर लेती हैं जो परीक्षा देने के समय अत्यधिक कठिनाईयां पैदा करती हैं।

परीक्षा और करियर की चिंता से होने वाले इसी तरह के मानसिक तनाव से निपटने के लिये माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा एक छात्र परामर्श हेल्पलाइन की शुरुआत की गई। जिसमें हाईस्कूल एवं हायर सेकण्डरी परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले छात्रों और उनके अभिभावकों का मानसिक तनाव दूर करने के लिये मनोवैज्ञानिक परामर्शदाताओं के द्वारा परामर्श दिया जा रहा है। छात्रों को होने वाली अकादमिक समस्याओं का निवारण भी इस पैनल के मार्गदर्शन से किया जा रहा है। छात्र और उनके अभिभावक माध्यमिक शिक्षा मंडल, मध्यप्रदेश, भोपाल के विज्ञान केन्द्र स्थित हेल्पलाइन कक्ष से भी परामर्श प्राप्त कर रहे हैं। इस हेल्पलाइन सेवा का लाभ छात्रों को प्रात: 8 बजे से रात्रि 8 बजे तक एक टोल-फ्री नंबर 18002330175 और लैंडलाइन नंबर 0755-2570248 / 2570258 के माध्यम से दिया जा रहा है जिसका का संचालन 4-4 घंटे की तीन पारियों में किया जा रहा है। प्रत्येक पारी में 6 काउंसलर्स द्वारा काउंसलिंग दी जा रही है। वर्ष 2018 में कुल 100611 छात्रों को हेल्पलाइन सेवा के माध्यम से काउंसलिंग प्रदान की गई है।

इस हेल्पलाइन की मदद से छात्रों को विभिन्न योजनाओं से संबंधित जानकारी, परीक्षा दिशा-निर्देश, तनाव-मुक्त परीक्षा पर सुझाव, बेहतर परिणाम पर सुझाव, करियर काउंसलिंग, स्वस्थ अध्ययन की आदतें और परीक्षा के दौरान एकाग्रता लाने समेत कई अन्य बिंदुओं से अवगत कराया जा रहा है।

माध्यमिक शिक्षा मंडल, मध्यप्रदेश, भोपाल आपको छात्र परामर्श प्रणाली के माध्यम से परीक्षा के तनाव से निपटने के तरीकों पर अपने विचार साझा करने के लिए आमंत्रित करता है। आइए आप अपने नवीन विचारों को हमसे साझा कीजिये जो छात्रों की मानसिक शक्ति को बढ़ावा देने में मदद करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि परीक्षा की तैयारी के दौरान मध्य प्रदेश में प्रत्येक छात्र के पास एक स्वस्थ और खुशमिजाज दिमाग हो। इस सेवा को और बेहतर बनाने के लिये अपने व्यक्तिगत सुझाव हमारे साथ MP MyGov पर साझा करें।

All Comments
Reset
43 Record(s) Found

Shivanand Gupta Abvp 5 months 6 days ago

सभी छात्र छात्राये परीक्षा को एक उत्सव की तरह मनाये | जैसे होली और दीपावली आने पर हम सफलता पूर्वक मनाते है |

Rahul pal 5 months 1 week ago

प्रिय छात्रों परीक्षाओ का दोर चल रहा है दिमाग को शांत रखे जो कुछ भी आपने पढ़ा है उसको एक बार जरुर लिख कर देखे !

Mukesh Sharma 5 months 1 week ago

physics के विद्यार्थियों के लिए यह वेबसाइट बनाई गई है। जिससे उन्हे मदद मिल सके।
physics के विद्यार्थी इसे जरूर देखें
https://www.physicsfanda.co.in

Yashwant Nagesh 5 months 1 week ago

According to my point of view all of the students should prefer self study and when they get their attention only for the personal development and try to make sure that they are far better than others. They should be busy only for their curriculum not for another bad habits. And also take proper diet and have to be curious about their health.

Rajesh prabhuji 5 months 1 week ago

विद्यार्थि को बुध्दि कसौटी द्वारा उसकी रूचि/क्षमता के आधार पर लाइन दी जाए ।सफाई/सुरक्षा/उपचार /GK ट्रेनिंग दी जाए NCC/Homegards स्टाईफंड सहित

rajiv kumar shukla 5 months 1 week ago

All coaching should be Banned in state by Govt. No teacher should be allowed to give private tutions in school. /home .Self studies and only witten habbit of subject should will manage in school time will help overcome mental stress.This Ecosocial habit to gain more cash of teachers to promote more tutions after banned by Govt.wiil decreased and teacher will certainly pay more attention in class .

Ritesh Kumar Dubey 5 months 1 week ago

मेरा सुझाव यह है ि‍कि छात्रों को परीक्षा के समय अपना पुराना (सालभर जो पढा है) कोर्स जो उसे पढने मे कठिनाई ना हो वही पढना चाहिये और उसे मन मे कोई भी तनावग्रस्‍त महसूस नही करना चाहिये । और पेपर के 16 घंटे पहले बिल्‍कुल भी पढाई ना करें ।