You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

नशा मुक्त समाज निर्माण हेतु आपके विचार आमंत्रित हैं

Start Date: 16-12-2019
End Date: 10-02-2020

नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले हानिकारक प्रभावों के बारे में ...

See details Hide details

नशीले पदार्थो के सेवन से होने वाले हानिकारक प्रभावों के बारे में जागरूकता हेतु कार्यालय संभागीय आयुक्त भोपाल तथा यूनाइटेड नेशंस डेवलपमेंट प्रोग्राम (यूएनडीपी) द्वारा 'नवोत्थान' कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। जिसमें सभी नागरिकों से आग्रह है कि इस विषय पर अपने महत्वपूर्ण विचार साझा करें; कि हम कैसे प्रदेश में नशीले पदार्थों के नकारात्मक प्रभाव के प्रति लोगों कों जागरुक कर सकते हैं।

आज भारत जैसे देश में युवाओं के बीच तेजी से बढ़ते नशीले पदार्थों का सेवन आम समस्याओं में से एक है। भले ये बात चौंकाने वाली लगे लेकिन फिर भी यह सच है; शोध बताते हैं कि मध्य प्रदेश देश का दूसरा राज्य है जहाँ युवाओं में नशीलें पदार्थों की लत सबसे अधिक है। प्रदेश में नौजवानों के बीच आज शराब और तंबाकू-सिगरेट जैसे नशीले पदार्थों का सेवन लगभग एक आम बात बनती जा रही है।

नशीले पदार्थों के उपयोग के कारण न सिर्फ इसे उपयोग करने वाले लोगों के लिए अनेक गंभीर स्वास्थ्य समस्याएँ उत्पन्न हो रही है; बल्कि बड़े पैमाने पर उनके परिवार और समुदाय के लोगों को भी विभिन्न समस्याओं से जूझना पड़ता है। नशीले पदार्थों में प्रमुख रूप से शराब, कोकीन, अफीम से बनी नशीली दवाईयां शामिल हैं, जो लोगों के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों पर गंभीर रूप से प्रतिकूल प्रभाव डालती है। व्यक्ति के शरीर में लगभग उसके हर अंग पर इसका हानिकारक प्रभाव पड़ता है। नशीले पदार्थों के सेवन से होने वाला नुकसान हमारी कल्पना से कहीं अधिक घातक और जानलेवा है।

एक जागरूक व सभ्य समाज के रूप में, हम सभी की जिम्मेदारी है कि समाज को नशा मुक्त बनाने में अपना हर संभव सहयोग दें। कार्यालय संभागीय आयुक्त भोपाल तथा यूएनडीपी द्वारा 'नवोत्थान' कार्यक्रम को और प्रभावी बनाने हेतु अपने बहुमूल्य सुझावों को mp.mygov.in पर साझा करें।

All Comments
Reset
210 Record(s) Found
3850

Manju Purohit 7 months 3 weeks ago

सबसे पहले प्रदेश की सरकार शराब एवं तंबाकू पर प्रतिबंध लगाए!
साथ ही युवाओं को प्रोत्साहित करते हुए "नशा नाश का घर है"स्लोगन के जरिये सभी छोटे बड़े शहरों में होर्डिंग बैनर लगाए!
एक महत्वपूर्ण कार्य- आजकल सिगरेट कंपनियां 5 ₹ वाली सिगरेट बनाने लगी है जिसे नासमझ युवा आसानी से खरीद लेते हैं और इसके दुष्परिणाम
को समझे बिना कश लगा रहे हैं, इस पर तुरंत प्रतिबंध लगाएं!
सरकार को भी नशे से संबंधित वस्तुओं पर प्राप्त होने वाले राजस्व का लालच छोड़ना पड़ेगा! क्या सरकार ऐसा कर पायेगी?

33420

Arvind saini 7 months 3 weeks ago

व्यक्तियों को नशीली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। नशीली पदार्थो सेवन करने से आपको और आपके परिवार को बहुत दर्द झेलने का सामना करना पढ़ सकता है। तो ऐसी कोई से नशीले पदार्थो का सेवन ना करे और ना आपके चाहने बालो को करने दे।
अगर आप को व्यक्ति को समझाकर उसकी गलत संगत झुडवा सकते हो तो आपके लिए वो एक आशीर्वाद से कम नहीं है।

धन्यवाद। ......

4020

Aakhya Sen 7 months 3 weeks ago

नशामुक्ति के उपाय- नशे को देश से मुक्त बनाने के लिए हर व्यक्ति को अपने स्तर पर प्रयास करना चाहिए और इससे होने वाली हानियों के विषय में जानकर खुद को इससे दुर रखना चाहिए। सरकार ने भी नशे पर प्रतिबंध लगाया है और यदि कोई भी व्यक्ति नशा करता या नशीले पदार्थ बेचता हुआ पाया जाता है तो उसे सजा दी जाती है। लोगों की नशे की लत छुड़वाने के लिए बहुत से नशा मुक्ति केंद्र भी खोले गए है।

मुक्त देश हर नागरिक की आवश्यकता है और इसी से राष्ट्र उन्नति कर सकेगा और यह तभी संभव है जब हर व्यक्ति नशीले पदा

3260

Jagdish yadav 7 months 3 weeks ago

नशा मुक्त समाज बनाने पर मेरे सुझाव:-
१)नशीले पदार्थो की बिक्री पर रोक
२)नशे के बारे मे जागरूकता
३)नशीले पदार्थो के विक्रेताओ पर कठोरतम कानूनी कारवाई

310

Shinu Gupta 7 months 3 weeks ago

नशेड़ी का जिस्म तो किसी भयानक नर्क सा सडता है
कभी ना उसका मुकद्दर किसी सुहाने सूरज सा चढ़ता है
लगा देता है नशा इस कद्र जंग जिस्म के रोम रोम को
के चल ना पाता आदमी ठीक से,हर अगले कदम पर पड़ता है
https://neerajrattanbansal.blogspot.com/

2400

ANAND SAWWASHERE 7 months 3 weeks ago

नश्ले हो चुकी है खुद गर्द , किसी का कोई अहम् नहीं ||
औरो को बचा ना पाया , मिला ना कोई हमदर्द ||
नशा मुक्त समाज तभी हो सकता है जिसमे कुछ ख्याल सरकार का हो अर्थात जहा से पैदावार हो रही उसी को नष्ट करवा दीजिये , दुबारा उसे उपर आने की जरुरत ही नहीं है || मेरे खयालो से अपनी जिंदगी सुनियोजित तरीको से जीना है तो नशे को ख़त्म करना होंगा और इससे दूर रहना होंगा , कारण इससे अपनी कूद की तो हानि है पर साथ में परिवार बहने की भी ज्यादा शंका है ||

300

Lala963022 Mishra9630 7 months 3 weeks ago

नशा शब्द का तात्पर्य ही नाश से है मनुष्य के जीवन में जिस प्रकार नशा बढ़ेगा
उसी प्रकार नाश भी बढ़ेगा नशा मनुष्य के जीवन को धीरे-धीरे नाश से होते हुए सर्वनाश की ओर ले जायेगा

9630

Pramod Kumar Mehta 7 months 3 weeks ago

इंसान को एक न एक नशा जरुर करना चाहिए, भले ही वह देशभक्ति का हो या स्वच्छता का। ऐसी किसी भी चीज का उपयोग नहीं करूंगा जिससे होश हवास खो जाए, इस बात का संकल्प इंसान हर दिन ले, इससे सामाजिक सुरक्षा ढांचा मजबूत होगा मीडिया का बहुत बड़ा रोल भी रहता है, सोशल मीडिया पोर्टल पर चेतावनी हर घंटे चलना चाहिए ब्रेकिंग न्यूज की तरह। प्रमुख प्रमुख जगह बोर्डस् लगाकर दुष्प्रभाव बताओ, लोग डरेगें तभी नशा मुक्ति हो पाएगा।

300

Arvind patel 7 months 3 weeks ago

मन में ठानें •जब तक आप खुद नहीं चाहेंगे, कोई और आपका नशा नहीं छुड़ा पाएगा। सबसे पहले मन में ठान लें कि आप नशा छोड़ना चाहते हैं। •शुरू में अपनी बात पर टिए रहने में दिक्कत आएगी, लेकिन अपने मन को मजबूत रखें। •लत छोड़ने की वजहों को दिन में बार-बार मन में दोहराएं। हो सके तो ऐसी जगह पर लिखकर लगा दें, जहां आपकी बार-बार नजर पड़ती हो। plzzzz sbhi s anurodh hai ki apni family k bare mai socho ki agr apko kuch ho gya to unka kya hoga ....