You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

निशक्तजनों के सशक्तिकरण व उत्थान के लिए नागरिकों के सुझाव आमंत्रित हैं

हर व्यक्ति इतना भाग्यशाली नहीं होता कि वह जन्म से ही स्वस्थ शरीर के ...

See details Hide details

हर व्यक्ति इतना भाग्यशाली नहीं होता कि वह जन्म से ही स्वस्थ शरीर के साथ पैदा हो। दुनिया भर में लगभग 650 मिलियन लोग विकलांगता के शिकार हैं। 2001 की जनगणना अनुसार चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं जिनके अनुसार हमारे देश में 21 मिलियन लोग किसी न किसी तरह की विकलांगता से पीड़ित हैं और यह हमारे देश की जनसंख्या के 2.1 फीसदी के बराबर है।

कल्पना कीजिए कि दिव्यांग व्यक्ति इतनी खूबसूरत दुनिया को देखने और प्रकृति की शांत ध्वनि को सुनने में अपने आपको असहज महसूस करता है। क्या आप जानते हैं कि शब्दों के माध्यम से अपनी बात को व्यक्त करने या अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में सक्षम नहीं होने पर कैसा महसूस होता है? हम कल्पना भी नहीं कर सकते कि विकलांगता के साथ किसी व्यक्ति का जीवन कितना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

भारत सरकार और राज्य सरकार दिव्यांगजनों के लिए समान अवसर उपलब्ध कराने और राष्ट्र निर्माण में उनकी भागीदारी के लिए संकल्पित है। भारतीय संविधान दिव्यांगजनों सहित सभी नागरिकों को स्वतंत्रता, समानता और न्याय के संबंध में स्वतंत्रता के अधिकार की गारंटी देता है। परन्तु वास्तविकता में सामाजिक-मनोवैज्ञानिक और सांस्कृतिक कारणों की वजह से दिव्यांगजन भेदभाव और उपेक्षा का सामना कर रहे हैं। दिव्यांग लोगों के साथ भेदभाव के कारण दिव्यांगता की मात्रा दोगुनी हो जाती है। सार्वजनिक अनुभूति और पूर्वधारणा के कारण दिव्यांगजनों के कौशल और क्षमता को काफी हद तक कम आँका गया है, जिसके कारण उनमें हीन भावना उत्पन्न होती है और उनका विकास अवरूद्ध होने लगता है। जबकि ज्यादातर मामलों में, यह देखा गया है कि ऐसे व्यक्ति हमसे ज्यादा गुणवान हैं और अगर मौका दिया जाए तो वे हमसे आगे भी निकल सकते हैं। दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम 2016 में सरकार द्वारा सुधार करने का प्रयास किया जा रहा है।

संयुक्त रूप से विकास की ओर चलने के लिए मध्य प्रदेश सरकार ने निशक्तजनों के लिए नियम बनाये हैं। जिसके अंतर्गत मानव संसाधन विकास और उनका पुनर्वास शामिल है। निशक्तजनों पर सार्वजनिक जागरूकता पैदा करना, दिव्यांगों के सशक्तिकरण के लिए सुविधाएं प्रदान करना और दूसरों के बीच उनके लिए सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करना शामिल है। सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी कदम उठा रही है कि ऐसे लोग दूसरों की तरह अपने अधिकारों का आनंद ले सकें। 6 से 18 वर्ष के बीच की विकलांगता वाले प्रत्येक बच्चे को मुफ्त शिक्षा प्रदान करने का प्रयास किया जा रहा है। उच्च शिक्षा, सरकारी नौकरियों, भूमि के आवंटन और गरीबी उन्मूलन योजनाओं में आरक्षण विशेष रूप से निशक्तजनों को प्रदान किया जा रहा है।

निशक्तजनों से जुड़े मिथकों और टीकाकरण के बारे में जागरूकता बढ़ाने हेतु विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम और अभियान चलाए जा रहे हैं। दिव्यांगों के लिए बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, सरकारी और निजी कार्यालयों तक आसान पहुंच बनाने के लिए सुविधायें सुनिश्चित की जा रही हैं।

सरकार अकेले ही दिव्यांगों के जीवन स्तर में सुधार व परिवर्तन नहीं ला सकती है। समाज के हर वर्ग के व्यक्ति को निशक्तजनों के प्रति अपनी सोच बदलनी होगी और उन्हें स्वीकार करना होगा, इसके साथ ही उनके उत्थान के लिए काम करने की जिम्मेदारी भी निभानी होगी।समाज को दिव्यान्गता के प्रति दया और सहानुभूति दिखाने की आवश्यकता नहीं है बल्कि ऐसे व्यक्तियों को समुचित अवसर प्रदान करने की ज़रूरत है। हमें यह याद रखने की जरूरत है कि कोई देश केवल तभी ऊपर उठ सकता है जब समाज के हर वर्ग को सशक्त होने का अवसर मिले और सामूहिक रूप से समावेशी विकास की ओर एक कदम बढ़ाया जाए।

आयुक्त निशक्तजन, मध्यप्रदेश नागरिकों से निशक्तजनों के उत्थान की दिशा में आपके मूल्यवान विचार एवं सुझाव MPMYGov पर एक डिजिटल अभियान के माध्यम से आमंत्रित करता है। क्या आपके पास ऐसे विचार हैं जो दिव्यांग लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने में अहम योगदान दे सकते हैं या उनके जीवन को परेशानियों से मुक्त बना सकते हैं? हमारे साथ अपने सुझाव एवं विचार साझा करने के लिए mp.mygov.in पर लॉग इन करें।

All Comments
Reset
46 Record(s) Found

Roshan kumar malviya 4 days 20 hours ago

Government should give financial help to disabled peoples's.
As a disabled boy I knew the problem which i face.
Government should give allowances to every disabled person for their study.
Government should give allowances for the disabled person who do preparation of JEE,UPSC,CAT etc.
This will surely improve the conditions of Divyaang jan.

mahipal singh pinjraya 6 days 21 hours ago

Ngo के माध्यम से जमीन स्थर पर कार्य करना चाहिए आज कल शाशन की योजना किसी को पता ही नही चलती ग्रमीण झेत्र में इस लिए ngo की मदत लेना चाहिए महाराणा सेवा संस्था मध्यप्रदेश शाशन के साथ कदम से कदम मिला कर चलेगा 9425345555

Rajan Tiwari 1 week 1 hour ago

सभी सार्वजनिक कार्यालयों में निर्माण की अनुमति में दिव्यांगों की सुविधानुसार निर्माण करना अनिवार्य होना चाहिए।इसके अलावा पब्लिक ट्रांसपोर्ट में भी उनकी सभी सुविधाओँ को अनिवार्य किया जाना चाहिए।
Http://bhopalnashamuktikendra.com

Ashish Nayak_5 1 week 3 days ago

आदरणीय सर, सुझाव है कि दिव्ययांग लोगो के लिये ऑनलाइन ट्रान्सफर होने चाहिए, क्योंकि दिव्ययांग की पद स्थापना के समय पास की परियोजना के स्थान पर अधिक दूरी पर पदस्थ किया गया है, जबकि पास की परियोजना में रिक्त पद था अब ही सरल प्रक्रिया कर दीजिए कि आसानी से हो सके, परिवार, माता पिता के साथ रह सके या up, down कर सके.

BISWANATH PANDA 1 week 3 days ago

THE DISABLITY IS ONLY GIVE RESULT IF THERE IS NO FORCE TO THEM. THE SURROUNDING IS WITH FAMILY MEMBER, AND THE FACILITY OR THE HONORABLE SCHEME FOR DISABILITY IS EASILY ACCEPT BY PARENTS. WITH THIS ANY HONOR OR ANY AWARD IS RECIEVE WITH FAMILY. THIS REDUCES THE GAP BETWEEN FAMILY. THE PHOTOGRAPH FOR THE HONOR IS GIVE POSITIVE ATMOSPEHER IN SIDE THE HOME & GET AN ALTERNATIVENESS FOR ANATHOR SESON OUT SIDE THE HOME.

WIN
BISWANATH PANDA
JATANI, KHORDA, ODISHA, INDIA-752050