You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

भोपाल में प्लेसमेकिंग स्पॉट्स पर चर्चा

प्रदेश में स्मार्ट सिटी की अवधारणा को मूर्त रूप देने के लिए नगरीय ...

See details Hide details

प्रदेश में स्मार्ट सिटी की अवधारणा को मूर्त रूप देने के लिए नगरीय प्रशासन विभाग प्रयासरत है। इसके अंतर्गत नागरिकों की सहभागिता, कौशल विकास और क्षमतावर्धन के माध्यम से विभिन्न गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं। भोपाल नगर निगम द्वारा भोपाल में इसी श्रंखला में प्लेस मेकिंग योजना का संचालन किया जा रहा है। इस योजना में भोपाल शहर के नागरिकों की सुख, सुविधाओं और स्वास्थ्य को दृष्टिगत रखते हुए ऐसे स्थान विकसित करना है जो नागरिकों के जीवन स्तर को और बेहतर कर सकें। इन स्थानों का चयन नागरिकों से चर्चा और उनके फीडबैक के बाद किया जायेगा। इन स्थानों पर बेहतर आर्किटेक्चर और कलात्मकता के साथ सामाजिक सरोकारों को भी ध्यान में रखकर स्थानों का विकास किया जायेगा। इन स्थानों पर प्रमुखतः खुले जिम, फ़ूड कॉर्नर, प्ले जोन, फ्री लाइब्रेरी, सांस्कृतिक और ऐतिहासिक गतिविधियाँ, पब्लिकआर्ट, हाकर्स मार्केट पार्किंग, गार्डन, आदि सुविधाएँ प्रस्तावित की जा सकती हैं।

आप भी इस अभियान में भाग लेकर अपनी पसंद के स्थानों को चिन्हित कर सकते हैं, आपके सुझावों के आधार पर ही इन स्थानों को विकसित करने के लिए निर्णय लिया जायेगा I अपने सुझावों के साथ आप अपने पसंदीदा स्थान की लोकेशन भी कमेन्ट बॉक्स में डाल सकते हैं।

प्रस्तुत करने की आख़री तिथि 31 दिसंबर 2017 है

प्लेसमेकिंग के दिशा-निर्देशों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

All Comments
Reset
19 Record(s) Found

Jacob John_2 3 weeks 2 days ago

While you happen to identify enough space in a commercial area, think of starting a tribal hat, exclusively for selling genuine products and services from the tribal area. Selling of Tribal Ornaments, Garments, Utensils, Handicrafts, Weapons, Food products, Herbs, Medicines, Hygenic tattooing, artworks and a restaurant serving tribal food in a tribal way could be considered

Jacob John_2 3 weeks 2 days ago

Urban agriculture feeds into the urban ecology and ensures keeping the city green and provide nutrition and employment for its inhabitants.Identify areas for and of urban agriculture and animal farms in Bhopal, develop them, preserve them, promote urban agriculture and make places of urban farming a celebrated location for the city dwellers. This will also ensure that our city is more livable.

Sagar Anant 1 month 1 week ago

सर,
मनीषा मार्केट,शाहपुरा तालाब को यदि VIP रोड और बड़े तालाब पर स्थित बोट क्लब जैसा विकसित किया जाना चाहिए!यह बहुत ही सुंदर प्राकृतिक जगह है! शाम को यहां अंधेरा छाया रहता है,कोई इस की तरफ ध्यान नहीं देता!
यहां फूड ज़ोन,बोट क्लब,लेसर लाइट शो आदि की अपार संभावना है!
शाहपुरा लेक के साइड वाली रोड को VIP रोड की तरफ विकसित कर,अच्छी रेलिंग लगाकर,बैठने के लिए अच्छी बेंच लगाकर,इस जगह को बहुत सुंदर बनाया जा सकता है!कृपया इस तरफ ध्यान दें!
अगर आप मुझे मौका दे तो मैं इसपर काम करना चाहता हूँ

Yogendra 2 months 2 weeks ago

#placemaking
फूड जोन, शिल्प बाजार, और पार्क बनाकर उसमे लाइटिंग, पानी, शौचालय, चेयर, वाहनपार्किंग आदिकी की सुविधा हो |

स्थान= होशन्गाबाद रोड, जम्भूरी मैदान

VIJAY KUMAR VISHWAKARMA 2 months 2 weeks ago

स्मार्ट सिटी मस्तिष्क युक्त प्राणियों के लिए है, लेकिन पशु तो मस्तिष्क का उपयोग करते नहीं उन्हें न तो ट्राफिक लाईट की समझ है और न ही दायें बायें की । तो क्या स्मार्ट सिटी में पशुपालन किया जा सकेगा ? क्या पशु - गाय भैंस सड़कों पर विचरण कर पायेंगे ? आज पूरे देश में गाय को राष्ट्रीय महत्व प्रदान करने की चर्चा हो रही है परन्तु स्मार्टसिटी की प्लानिंग में गायों के लिए कोई व्यवस्था बनाई गई है? बेहतर होगा कि हम गायों के विचरण के लिए मार्ग सहित चारागाह विकसित करने की दिशा में भी विचार करें

Adiseshu Nagemndra Talpasai Karlapalem 2 months 2 weeks ago

Development of Bhopal City:
(1). Installation of Sewage Treatment Plants in condominiums.
(2) Implementation of Rainwater harvesting.
II. Switching over to integrated water carriage drainage system coupled with STP treatment.
III. Enforcement of building bye-laws.
IV. Development of integrated water supply system to the entire city,
V. Cleansing the city from shanties of inhabitable living conditions.

rohit lodhi 2 months 2 weeks ago

In contemporary time the condition of basic infrastructure is worst specially in local areas of city.
Govt. Authorities must prioritize their spending towards:-
1 Roads
2 Drainage
3 Traffic regulation
4 Street lighting &
5 Urban transport (specially when the funds are utilized to beautify bus stops instead of ageing fleet of buses)
This basic infrastructure actually defines a smart city.

Rajat sharma 2 months 2 weeks ago

I urge the authorities to prioritise fundamental structural development of the city.. mere cosmetic changes are unsustainable if the core is unhealthy..
1. Street lighting
2. Drainage
3. Multi level parking
4. Road repair fund maintenance
5. Decongestion of old city including rly station area
6. Regulated public transport
7. Direct pvt buses to use BRTS lane only..

Pl make changes that touch the lives of majority population instead of the schemes used by only a few..

Rajat sharma 2 months 2 weeks ago

Lets start by granting funds for street-lighting.. even safe places like BHEL look deserted in night due to darkness..
streetlighting will encoueage people to come out in nights giving the city a modern outlook..
Hi-fi schemes can be implemented later on.. streetlighting is important for safety as well.. I live in Awadhpuri and there is no lighting in the streets.. even areas such as anna nagar slums, kalibadi road, jawahar school, khajuri road have no lights.. let the development be inclusive