You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

मध्य प्रदेश में विकेंद्रीकृत नियोजन प्रक्रिया पर आपके सुझाव आमंत्रित किये जाते हैं -

माननीय मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में मध्यप्रदेश में विकेंद्रीकृत ...

See details Hide details

माननीय मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में मध्यप्रदेश में विकेंद्रीकृत नियोजन प्रक्रिया के माध्यम से विकास की बागडोर स्थानीय समुदाय के हाथों में सौंपने तथा निर्णय में जनसामान्य की भागीदारी के उद्देश्य से योजनाओं के निर्माण की प्रक्रिया को ‘‘ऊपर से नीचे‘‘ के स्थान पर ‘‘नीचे से ऊपर‘‘ के क्रम में संपादन की संकल्पना को मूर्त रूप देना है। संस्थागत तथा संगठनात्मकता व्यवस्थाओं के माध्यम से मध्यप्रदेश राज्य योजना आयोग प्रयासरत है। मध्यप्रदेश शासन ने योजनाओं के निर्माण में जनभागीदारी सुनिश्चित करने का साहस दिखाया है।

विकेन्द्रीकरण एक ऐसी व्यवस्था है जो कार्यों के समुचित संचालन व कार्यो को करने में पारदर्शिता, गुणवत्ता एवं जवाबदेही को हर स्तर पर सुनिश्चित करने के रास्ते खोलती है। मध्य प्रदेश में “विकेन्द्रीकृत नियोजन प्रक्रिया” वर्ष 2010-2011 से सफलतापूर्वक क्रियान्वित की जा रही है। विकेंद्रीकृत नियोजन प्रक्रिया का उद्देश्य सभी के लिए विकास के समान अवसर प्रदान करना, संसाधनों का न्यायिक वितरण एवं उपयोग तथा नियोजन प्रक्रिया में समुदाय की भागीदारी के माध्यम से सामाजिक, आर्थिक, भौगोलिक असमानताओं को कम करने के संदर्भ में बेहतर परिणाम प्राप्त करना है।

विकेन्द्रीकृत नियोजन की सोच स्थानीय स्तर पर लोकतान्त्रिक तरीके से चयनित सरकार पर जोर देती है एवं यह भी सुनिश्चित करती है कि स्थानीय इकाई को सभी अधिकार, शक्तियां व संसाधन प्राप्त हों और वह स्वतंत्र रूप से कार्य कर सकें।

पंचायती राज व्यवस्था के अंतर्गत विकेन्द्रीकरण नियोजन प्रक्रिया की पूर्ण व्यवस्था की गई है। जिसके अनुसार गांव तथा वार्ड द्वारा तैयार की गई योजनाओं को ग्राम पंचायत, ब्लॉक पंचायत और जिला पंचायतों के साथ-साथ शहरी स्थानीय निकायों के द्वारा जिले में प्रेषित किया जायेगा। योजनाओं का क्रियान्वयन भी ग्राम स्तर और वार्ड स्तर पर स्थानीय शासन द्वारा संचालित किया जाएगा।

राज्य योजना आयोग मध्यप्रदेश द्वारा ‘‘विकेन्द्रीकृत नियोजन प्रक्रिया‘‘ के माध्यम से नागरिकों को दी जा रही सुविधाओं और प्रयासों पर आप अपने महत्वपूर्ण सुझाव/विचार नीचे दिए कमेंट बॉक्स में दे सकते हैं। अधिक जानकारी के लिये यहां क्लिक करें।

All Comments
Reset
19 Record(s) Found

akash gawarle 2 days 4 hours ago

Sir....Respected sir..I am akash .i am from indore(mp).sir me aapse ye jaana chahta ki aapki sarkar studend loan deti hai.or aap sbhi student ko gov.sceme me aati hai..lekin ye sb bank ki kamai ka rasta hai....me khud ek student hu.mene bhi loan liya lekin abhi tk koi bhi job..nhi hai..or loan ka interst 3 lakh se 7lakh tk ho jye ga....ye kis trh ki sceam hai..jo student ko kezdaar bna rha hai...me aap se request krta hu ki aap is student ka kuch kigiye....me bhi dekhna chahta hu ap kya krte h

Rahul jaat 2 days 12 hours ago

आपकी विकेंद्रीकृत योजना से पहले पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में कार्यरत रोजगार सहायक को नियमित किया जाना चाहिए क्योंकि इनका परिवार भी आपके भरोसे ही पल पड़ रहा है इनका कोई भविष्य सुनिश्चित नहीं है फिर इस स्थिति में यह कैसे कर्मचारी कहलाएंगे भले ही आप थर्ड पार्टी द्वारा ऑडिट करवा लीजिए रोजगार सहायक सचिव से ज्यादा कार्य करता है और करता रहेगा पार्टी के कार्यकर्ता होने के नाते मैंने आपको यह सुझाव भेजा है माननीय प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह जी भी इस बात को जानते हैं

Rahul jaat 2 days 12 hours ago

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग कार्यरत रोजगार सहायकों को नहीं नियमित कर जिला संवर्ग में सम्मिलित किया जाना चाहिए क्योंकि यह वह होनहार युवा है जिन्होंने अपनी उद्यमशीलता और योग्यता सिद्ध कर फिर जॉइनिंग ली है और सचिव ग्राम पंचायत का ठहराव प्रस्ताव से ग्राम सभा के अनुमोदन से लगे हुए हैं अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि किस में ज्यादा बनता है अतः पुनः निवेदन है कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में कार्यरत ग्राम रोजगार सहायकों को नियमित किया जाना चाहिए यह सरकार के सभी जन कल्याणकारी योजनाओं का पूर्ण

Rahul jaat 2 days 12 hours ago

श्रीमान गोपाल भार्गव जी
पंचायतएवं ग्रामीण विकास विभाग मंत्री

विषय: ग्राम रोजगार सहायक को नियमित करने के संबंध में!
श्रीमान से सेवा में नम्र निवेदन है कि ग्रामीण विकास विभाग मध्य प्रदेश जो पूरे देश में प्रधानमंत्री आवास स्वच्छ भारत मिशन वृद्धावस्था पेंशन दिव्यांग पेंशन विधवा पेंशन मृत्यु प्रमाण पत्र जाब कार्ड संधारण मनरेगा आडिट डिजिटल इंडिया सीएससी सेंटर समग्र अपडेशन BPL पंजी संधारण मतदाता सूची का संधारण नाडेप परिसंपत्तियों का संधारण नल जल योजना विद्युतीकरण योजना आधार सीडिंगमजदूरसुरक्षा

Sangramsingh 4 days 5 hours ago

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अंतर्गत कार्य करने वाले पंचायत के रोजगार सहायक को नियमित किया जाना चाहिए मैं ग्रामीणजन होने के नाते आपसे आग्रह करता हूं कि यह लोग सरकार की सभी जन कल्याणकारी योजनाओं का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन करते हैं अतः इनकी 1 सूत्रीय मांग को पूरा किया जाना चाहिए धन्यवाद

Kunvar veer pratap 4 days 6 hours ago

माननीय मुख्यमंत्री जी से निवेदन है कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में कार्यरत ग्राम रोजगार सहायकों की 1 सूत्रीय मांग केवल और केवल नियमितीकरण का तोहफा दे दीजिए यह जी जान से ग्रामीण जनता की सेवा करते हैं अतः श्रीमानजी से निवेदन है कि इनकी मांग जायज है और पूर्ण की जाए

CHANCHALESH DHURVE 6 days 23 hours ago

माननीय cm sir हमे आशा है आप ने mp को develop करने के लिए regular आप की प्रयास जारी है हम युवा भी आप के साथ मिलकर skill india and digital india को बेहतर बनाऐगे..

vinay awasthi 1 week 1 day ago

मुख्यमंत्री महोदय शासन के क्रियान्वयन में आम आदमी की भागीदारी का ये अभिनव प्रयास है।
महोदय शासकीय सेवा प्राप्त करने वाले या दिव्यांगों के लिए जिला मेडिकल बोर्ड का फिटनेस प्रमाणपत्र आवश्यक है। चूँकि मध्यप्रदेश सूचना प्रौद्योगिकी अपनाने में अव्वल रहा है तो जिलामेडिकल बोर्ड के लिए एक केंद्रीय सर्वर और प्रोग्राम बनाया जाए जिससे कोई भी किसी भी जिला मेडिकल बोर्ड में प्रमाणपत्र बनवा सके। कई बार डॉक्टर या जाँचो मशीनरी के आभाव में मेडिकल नही हो पाता है जो कि हफ्ते में एक बार होता है ।आशा है अमल होगा