You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

मातृत्व स्वास्थ्य एवं पोषण

See details Hide details

मध्यप्रदेश में मातृ सुरक्षा कार्यक्रमों के प्रभावी क्रियान्वयन के परिणामस्वरूप, राज्य में मातृ मृत्यु दर में गिरावट दर्ज की गई है।

पोषण; मातृ एवं बाल स्वास्थ्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

अधिकांश महिलाएं गर्भावस्था में पर्याप्त पोषण न मिलने से कम वजन, एनीमिया सम्बंधित समस्याओं से ग्रसित हैं । गर्भावस्था में पोषण की कमी से मातृ मृत्यु दर और कुपोषित शिशु के जन्म जैसे दुष्परिणाम सामने आते हैं।

गर्भावस्था के दौरान महिला द्वारा लिया जाने वाला आहार ही उसके शिशु के भोजन का एक मात्र स्रोत होता है। मातृत्व स्वास्थ्य में सुधार द्वारा ही प्रदेश के सभी शिशुओं को कुपोषण से बचाया जा सकता है।

एकीकृत बाल विकास सेवा, महिला एवं बाल विकास विभाग गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में मातृत्व स्वास्थ्य व पोषण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के तरीकों पर सुझाव आमंत्रित करता है।

All Comments
Reset
15 Record(s) Found

PIYUSH KUMAR 7 hours 32 min ago

आदरणीय मुख्यमंत्री जी नमस्कार,
चूंकि एक लड़की ही आगे चलकर एक मां बनती है, अतः मेरे विचार से प्राथमिक कक्षाओं के पाठ्यक्रम में मातृत्व स्वास्थ्य एवं पोषण के बारे में पढ़ाना चाहिए इसके अलावा गांवाें में नुक्कड़ नाटकों व सभी प्राथमिक चिकित्सालयों में मातृत्व जागरूकता कार्यक्रम नियमित रूप से आयोजित होने चाहिए। इसके अलावा विज्ञापनों का भी जागरूकता में काफी योगदान होता है मातृत्व स्वास्थ्य एवं पोषण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए विभिन्न जागरूकता प्रतियोगिताओं का भी आयोजन होना चाहिए।
धन्यवाद

Ramakrishna Lakshmanan 3 days 3 hours ago

Lady doctors and other women health experts must play a active
role in educating, counseling pregnant women. They shall volunteer to take part in conducting awareness camps to assist, guide and help in understanding pregnancy related requisites of care, precautions and how to handle emergency situations. Lady doctors also need to educate pregnant women about the need to follow a healthy nutritious diet that is essential for birth of a healthy baby. Nutritious food and adequate rest is a must.

Jitendra tarai 1 week 2 days ago

कुपोषण से लड़ाई में ,हमने थाम लिया हाथ,
मेरे भाइयों, मेरे बहनों , चलो मेरे संग साथ ।
अब नगर नगर , गांव शहर,
जाकर कुपोषण की बात बताना है
कुपोषण से मुक्त कराने का हमने ठाना है
इस अंधकार में हमको स्वस्थता का ज्योत जगाना है
मेरे भाइयो मेरे बहनों, ये संदेश घर घर फैलाना है
मेरे MP को कुपोष्णमुक्त बनाना है।
नई राहे, नई सपने, नई आश ,
अब मेरा स्वस्थ MP करेगा विकास ।

CHANDRA KISHOR GOSWAMI 1 week 3 days ago

ek helpline number hona chahiye jo ki pregnency k dauran koi bhi samasya hone par bina kisi paper formality ke prasuta mahila ko taklif mahsoos hone par hospital tak pahucha kar samasya ka samadhan kare aur poshan ke liye seedhe mahila ke ghar tak poshak wali chheje bheji jani chahiye...

harpreet singh_191 1 week 4 days ago

pregnant women's should be given better diet and environment to grow their child and this is benefit for whole state and our country.

leela joshi 1 week 4 days ago

गर्भवती माताओ के स्वास्थ्य व् पोषण की समस्या को केवल गर्भावस्था के समय ठीक करने का विचार अधूरा प्रयास है,क्योंकि यह इससे पूर्व से चली हुई समस्या है,यानि किशोरावस्था से,गर्भ के दौरान बढ़ जाती है।इसी प्रकार यह बहुआयामी समस्या है,केवल किसी एक विभाग द्वारा हल हो जाय यह भी सही नहीं है।हमारे पास material की कमी नहीं है it needs a joint efforts of all the concerned dpts.n correct participation from society,result oriented targetted programme,with very clear responsibility.frequent changes in programmes

Rajendra Ahirwar 2 weeks 1 hour ago

मातृत्व स्वास्थ्य एवं पोषण से तात्पर्य है कि गर्भवती महिला सम्पूरण आहार देने से है yah aahar hame mushroom se mil sakta kyoki mushroom ek eesa kavak hai jo ham gavo ke jhopdiyo me bhi uga sakte hai. isme lagat bahut hi kam hoti hai aur iska utpadan aur sevan garib se garib vyati kar sakta hai isme be sabhi aml hote hai jo ek sampurn bhojan me hone chahiye jiske sevan se kuposhan desh se dur ho jayega aur aay ka sadhan bhi hai .