You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

"विद्या दान" बेस्ट एक्सपीरिएंस शेयरिंग - 2017

इंदौर संभाग में विगत तीन वर्षों से जारी "विद्या दान" अभियान के तहत अब ...

See details Hide details

इंदौर संभाग में विगत तीन वर्षों से जारी "विद्या दान" अभियान के तहत अब तक 2455 वॉलंटियर्स ने 6 महीने तक सरकारी स्कूलों के बच्चों के साथ अपने ज्ञान को साझा किया। जिसकी वजह से छात्रों के मनोबल में वृद्धि होगी, सपनों को हकीकत में बदलने का विश्वास मिलेगा और नए भविष्य का निर्माण होगा।

आपने इस अनुभव को स्वयं महसूस किया है, जो हमारे लिए बहुमूल्य है. विद्यादान अभियान अपने समस्त वॉलंटियर्स से उनके अनुभव, सफलता, या सुझाव आमंत्रित करता है. साथ ही, बतायें कि बच्चों को और अधिक लाभ कैसे मिल सकता है, और ज्यादा से ज्यादा वॉलंटियर इस योजना से कैसे जुड़ सकते हैं।

आपके द्वारा प्रेषित सुझाव और प्रेरक गाथाओं को प्रकाशन और वेबसाइट में स्थान देने के साथ विद्यादान अभियान द्वारा के पुरुस्कृत भी किया जायेगा. चयनित सुझावों को इस अभियान के सूत्रधार श्री संजय दुबे (आयुक्त- इंदौर संभाग) द्वारा क्रियान्वयन में अमल में लाया जायेगा

आपके द्वारा स्कूल में बच्चों के साथ किये गए संवाद / सह-शैक्षणिक गतिविधियों के रोचक एवं प्रेरणादायी संस्मरण नीचे कमेन्ट बॉक्स में आप अपने बहुमूल्य सुझाव दें :-

All Comments
Reset
15 Record(s) Found

Neelesh Singh Lodhi 2 weeks 6 days ago

स्कूल मे सैलरी टीचर को वर्क के लिए नहीं टैलंट देने के लिए प्रोवाइड करना स्टार्ट कर दीजिये प्रॉमिस करता हु एडुकेशन का स्तर इतना बेहतर बन जाएगा की जिसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता।हर महीने स्कूल मे टेस्ट हो और उस महीने की सैलरी टीचर को उस महीने के टेस्ट रिज़ल्ट के एकोर्डिंग पाय की जाए इसका मतलब जिनती बेहतर सैलरी उतनी बेहतर सैलरी॰सबसे जरूरी बात टेस्ट ओरल होगे क्योकि रिटर्न का रिज़ल्ट तो टीचर को ही बनाना ह न

VIJAY KUMAR VISHWAKARMA 1 month 3 weeks ago

शिक्षकों की नयी भर्ती के पहले एक अनूठा प्रयोग किया जा सकता है, भावी शिक्षक बनने वालों को कुछ दिन शासकीय विद्यालयों में पढ़ाने के लिए आमंत्रित किया जाए और उनकी मॉनीटरिंग की जाए । इससे विद्यालयीन बच्चों का ज्ञान बढ़ेगा साथ ही पढ़ाने वालों की रूचि इस फील्ड में बेहतर होगी क्योंकि फिलहाल सच्चाई तो यही है कि नौकरी मिलते ही शिक्षक सब काम करते है सिवाए पढ़ाने के.

Srishilan C 3 months 2 weeks ago

Children always have doubts and ask question. That too much on their studies. They need somebody who can answer their question logically and technically, that too as a story which they like.
If some volunteers provide their phone numbers and may whichever place they are, students can always reach them on a toll-free contact to register their doubt and these volunteers can answer on phone on a queue basis. It would be very nice.
Thanks

Sachin Jain_61 3 months 2 weeks ago

Me chahta hu ki gov. mujhe ek village padane ke liye de.i m fully interested for "vidhaya Dan". Yadi kuch persons judkar whole year apna time children ko padane me invest Kare tu education mp ka sudhar jayega. Mil bache programme only one day nahi but whole year hona chahiye. But usme politics nahi balki Jo person apani good techniques se children me sudhar la sake ve hi person unhe teach Kare.otherwise more person only name fame ke liye aa rahe hai. usase only uska bhala hoga bacho ka nahi.

Sachin Jain_61 3 months 3 weeks ago

Me children ko primary education dene ke liye interested hu .Mene gramshikha NGO me registration Karaya but vaha se abhi tak koi response nahi aaya. Mera sarkar se nivedan hai ki mere paise Kai log hai Jo padana chahta hai apani free secs DeNa chahta hai have koi NGO nahi kholi sakata. Hum jaiso ko koi ek village humate district me hame de diya Jaye padana ke liye. Phir dekh job uneducated that hai. Ek din ke liye nahi kam se kam 1 year to 5 years tak ki responsebility DeNa chahta.

Gyanendra singh_21 4 months 1 week ago

प्राथमिक शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया जाए, अक्सर यह देखा जाता है कि प्राथमिक तक जो स्कूले होती है वहांँ पर पाँचवी कक्षा तक केवल एक ही शिक्षक होता है जबकि जो कक्षा छः के बाद प्रत्येक विषय के लिए अलग-अलग शिक्षक होते है मेरा मानना है कि प्राथमिक तक प्रत्येक विषय के लिए अलग-अलग शिक्षक हो तथा बच्चो के व्यावहारिक ज्ञान भी दिया जाए।

Gyanendra Singh
Satna Mp

Lal Singh Bani 4 months 1 week ago

I think our students are very poor in English.in schools where 11 to 14 age group students study called Upper Primary school have no English Teacher. So I wrote three books namely 'Glossary' that students can find pronunciation and meanings of all difficult words easily. These books are also helpful for teachers. These books are based on English Text book of Government schools in Uttarakhand although I didn't get any support from government. I distributed them free of cost among students.

Lal Singh Bani 4 months 1 week ago

I think our students are very poor in English. In schools where 11 to 14 age group students study called Upper Primary school have no English Teacher. So I wrote three books namely 'Glossary' that students can find pronunciation and meanings of difficult words easily. These books are also helpful for teachers also. These books are based on English Text book of Government schools in Uttarakhand government although I didn't got any support from government. I distributed free of cost to students.

Sony Parhi 4 months 1 week ago

Education must be friendly for dyslexic children. Make social work, community life goals, green campaign, animal welfare, empathy for senior citizens,digital literacy compulsory in schools.