You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

सही समय पर स्तनपान शिशु स्वास्थ्य के लिए है वरदान

जब किसी घर-परिवार में नवजात शिशु का जन्म होता है तो पूरा घर शिशु की ...

See details Hide details

जब किसी घर-परिवार में नवजात शिशु का जन्म होता है तो पूरा घर शिशु की मीठी किलकारी से गूंजने लगता है... सभी उसकी बलाएँ लेते हैं... परिवार में जन्म लेने वाला शिशु अपने साथ माँ-पिता व परिवार के लिए खुशियों एवं उम्मीदों का खजाना लेकर आता है। सभी चाहते हैं कि नवजात को कोई भी बीमारी न हो और वह खूब तन्दरुस्त, बलशाली और बुद्धिमान बने।

लेकिन थोड़ी सी लापरवाही नवजात शिशु को कमजोर और कुपोषित बना देती है। डॉ. के अनुसार जन्म के तुरंत बाद बच्चे को माँ का पीला, गाढ़ा दूध यानि खीस (कोलस्ट्रम) जरूर दिया जाना चाहिए। यह बच्चे का पहला टीका है। मानव जीवन में केवल एक ही बार, जन्म के तीन दिनों तक ही बच्चे को माँ से खीस (कोलस्ट्रम) मिलता है। यदि यह मौका निकल गया तो जीवन भर इसका कोई विकल्प नहीं। शिशु को जन्म से एक घंटे के भीतर ही स्तनपान शुरू कराके जीवन के पहले ही महीने होने वाली 5 में से 1 बाल मृत्यु को रोकी जा सकती है। कोलस्ट्रम में अनेकों वृद्धिकारक तत्व हैं जो प्रोटीन से भरपूर होता है, जो शिशु की आँतों की परिपक्वता में सहायक होता है। इम्यूनोग्लोबिन होने के कारण कोलस्ट्रम जीवन रक्षक है, जो शिशु को संक्रमण व एलर्जी से बचाता है एवं शिशु की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में सहायता करता है।

आंकड़े दर्शाते हैं कि हमारे प्रदेश में प्रति वर्ष जन्म लेने वाले 14 लाख बच्चों में से केवल 4.8 लाख बच्चों को ही जन्म के तुरन्त बाद जीवन रक्षक खीस (कोल्सट्रम) मिलता है। बाकी के 9.2 लाख बच्चे इससे वंचित ही रह जाते हैं, यानि हमारे प्रदेश के इतने बच्चे खतरे में हैं और सही समय पर स्तनपान के अभाव में कुपोषण से जूझ रहे हैं।
• प्रदेश में लगभग 80.08 प्रतिशत संस्थागत प्रसव होते हैं, इनमें से 93.08 शहरी क्षेत्रों में एवं 76.04 प्रतिशत ग्रामीण क्षेत्रों में संस्थागत प्रसव होते हैं।
• शहरी क्षेत्रों में 42.07 एवं ग्रामीण क्षेत्रों में 38.0 प्रतिशत सिजेरियन होते हैं। संभवतः सिजेरियन प्रसव के बाद जन्म के तुरंत बाद स्तनपान की शुरुआत नहीं हो पाती है।

इन सबके पीछे कारण कुछ भी हो सकते हैं... नर्सिंग होम में डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, परिवार के सदस्य, पति की अज्ञानता; लेकिन सोचिए ये लापरवाही शिशु के स्वास्थ्य को कितने खतरे में डाल देती है!
अत: नवजात शिशु के स्वास्थ्य के प्रति उसके माँ के साथ-साथ परिवार के सभी सदस्यों की भी ज़िम्मेदारी है कि जन्म से एक घंटे के भीतर स्तनपान की शुरुआत कराएं, एक भी बच्चा इस से वंचित न रह पाए।

इसी क्रम में महिला एवं बाल विकास विभाग, मध्य प्रदेश इन दिनों "जन्म के पहले घंटे में स्तनपान क्यों नहीं कराया जा रहा है और इसका समाधान क्या होना होना चाहिए?" यह जानने के लिए निम्नलिखित बिन्दुओं पर आपके विचार जानना चाहता है:
• परिवार के सभी सदस्यों को शिशु के सही समय पर स्तनपान के प्रति जिम्मेदार कैसे बनाएं।
• कितने लोग जानते हैं कि शिशु के जन्म के तुरंत बाद उसे स्तनपान कराना ज़रूरी है।
• नवजात शिशु कैसा भी हो जन्म के तुरंत बाद उसके लिए माँ का गाढ़ा दूध खीस (कोल्सट्रम) बहुत आवश्यक है।
• समाज में लोगों को इसके प्रति जागरूक कैसे किया जाए।
• नर्सिंग होम को इसके लिए जागरुक कैसे करें।

अपने महत्वपूर्ण विचार व सुझाव mp.mygov.in पर साझा करें। आपका यह योगदान निश्चित ही मध्यप्रदेश को सुपोषित एवं विकसित राज्य बनाने में महत्वपूर्ण योगदान करेगा।

All Comments
Reset
35 Record(s) Found
156420

Santanu Datta 4 months 2 days ago

Education about breast feeding at teen age student level, pregnancy level and early motherhood level by different way by teachers, doctors and nurses are the only solution. Details may be asked.

2670

vinod kumar kushwaha 4 months 1 week ago

माँ बनने वाली महिला को जन्म से 6 माह तक केवल माँ का दूध ही बच्चे का सर्वोतम आहार है

28440

SUBH KARAN CHORADIA 4 months 1 week ago

किशोरी लड़कियों की सही शंका समाधान करने वाली कोई संस्था नहीं है। प्रत्येक जिले में इस तरह की कम से कम पांच संस्थाए होनी चाहिए।

28440

SUBH KARAN CHORADIA 4 months 1 week ago

जन्म के बाद बच्चे के लिए छह माह तक माँ के दूध तुल्य और कुछ भी नहीं हैइस विशेष जानकारीको महिलाओं में प्रचार-प्रसार करके जागरूक करने की बहुत आवश्यकता है।

28440

SUBH KARAN CHORADIA 4 months 1 week ago

माँबननेवाली महिलाको जन्म से 6 माह तक केवल माँ का दूध ही बच्चे का सर्वोतम आहार है के महत्व को उसकी गर्भावस्था के दौरानउसकी जांच करने वाले डॉक्टर द्वारा सम्पूर्ण जानकारी देना I

28440

SUBH KARAN CHORADIA 4 months 1 week ago

जन्म के बाद बच्चे को छह माह तक केवलमाँ का स्तनपान करने से ज्यादा कुछ भी जरूरी नहीं है क्योंकि स्तनपान शिशु की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है एवं आवश्यक शारीरिक एवं मानसिक विकास में सहायक होता है।