You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

सुशासन सप्ताह : सुशासन में भागीदारी, निभाएं स्वच्छता के प्रति जिम्मेदारी

हम सभी के जीवन में कर्म का महत्वपूर्ण स्थान है। ऐसा कहा भी जाता है ...

See details Hide details

हम सभी के जीवन में कर्म का महत्वपूर्ण स्थान है। ऐसा कहा भी जाता है कि “कर्म ही श्रेष्ठ है, कर्म ही पूजा है।” क्योंकि कार्य हमारे जीवन और चेतना के विकास की प्रमुख प्रक्रिया है। इसलिए ऐसा कहना बिलकुल भी गलत न होगा कि हमारा कार्यस्थल हमारे लिए पूजनीय है। हम अपने कार्यस्थल पर अपने प्रतिदिन का लगभग एक तिहाई या इससे अधिक समय बिताते हैं, जहां पल प्रतिपल हमारे वातावरण से हम प्रभावित होते हैं और वातावरण के अनुसार ही हमारा मानसिक और शारीरिक विकास होता है । इस तरह हम देखें तो कार्यस्थल को स्वच्छ और सुन्दर बनाए रखना भी हमारे काम का ही एक महत्वपूर्ण हिस्सा होना चाहिए; क्योंकि एक स्वच्छ और सुंदर कार्यस्थल निश्चित ही अपने कर्मचारियों एवं वहां पर आने वाले लोगों...दोनों को ही प्रभावित करता है।

एक स्वच्छ कार्यस्थल का निर्माण करने से वहां काम करने वाले सभी कर्मचारियों के मनोबल को प्रेरित करने में सहायता मिल सकती है, जिसके फलस्वरूप उनमें समूचे कार्यालय की स्वच्छता के प्रति एक भावना का विकास होता है और वे अपने आस पास की स्वच्छता के लिए निरंतर सजग रहते हैं । स्वाभाविक रूप से इसका प्रत्यक्ष परिणाम कर्मचारियों के बेहतर स्वास्थ्य, वायरस और बीमारी के प्रसार को रोकने, वायु प्रदूषकों को रोकने , सफाई / रखरखाव / नवीनीकरण की लागत को कम करने इत्यादि पर समक्ष रूप से पड़ता है और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि कर्मचारियों की कार्य क्षमता को बढ़ाता है।

इसलिए स्वच्छता को न केवल अपने कार्यस्थल के अन्दर बल्कि अपने कार्यस्थल के आसपास के क्षेत्र में भी बनाए रखना एक सराहनीय विचार है।

इसी विचार को ध्यान में रखते हुए 24 से 30 दिसंबर, 2018 तक मध्य प्रदेश के सभी जिलों में सुशासन सप्ताह मनाया जा रहा है। सप्ताह के दौरान सभी सरकारी कार्यालयों में स्वच्छता अभियान की शुरूआत कर इसे निरंतर बनाए रखने एवं इसका अभ्यास करने हेतु सभी को प्रेरित किया जाएगा।

राज्य लोक सेवा अभिकरण, मध्यप्रदेश शासन आपको अपने कार्यस्थल को स्वच्छ व सुंदर बनाए रखने के लिए आपके विचार आमंत्रित करता है। हमें कुछ व्यावहारिक तरीके एवं गतिविधियाँ सुझाएँ, जो कार्यस्थल पर स्वच्छ वातावरण विकसित करने में सहायक हो।

(आप अपने कार्यस्थल पर स्वच्छ वातावरण के निर्माण हेतु किये गये कार्यों की फोटो भी हमसे साझा कर सकते हैं।)

स्वच्छ रहें, स्वच्छ रखें, सुशासित बनें ।

All Comments
Reset
38 Record(s) Found

basant tiwari 6 months 1 week ago

swaksha madhya pradesh banane ke liye sabse pahle sabhi logo ko jagruk karne ki jajurat hai swastha or swaksha rahne keliye uske kya phaide hai usse kya nuksan hai ye sabhi bate janta tak jana chahiye sirf kagjo tak shimit nahi hona chahiye iske liye sabhi logo ko jagruk karne ki jarurat hai vaise jyada jarurat hai samajhdar insan ko sanjhana sabse jyade gandgi padhe likhe log jyada kar rahe hai jyaise court ko hi lele to sabhi log graduate log hi court me rahte hai lekin bahut sare log gandgi

Dheerendra Singh Baghel 6 months 1 week ago

SIR MAI GAO ME RAHTA HU AUR LOGO KI SOCH KO DEKHTA HU KI WO AAJ BHI SARKAAR DAWADA BANAYE GAYE SAOCHALAYA KA UPYOG NAHI KARTE HAI JIS SE GANDGI AUR BAHUT SAARI BIMAARIYA FAIL RAHI HAI MAINE LOGO KI MANSHIKTA KO BADALNE KA PRAYAS KAR RAHA HU MERE KO ES ME 30% SAFALTA BHI MILI HAI PAR JIS DIN 100% LOG KHULE ME JANA BAND KAR DENGE US DIN MAI BAHUT KHUS HONGA.

Rajendra jatav 6 months 1 week ago

use.Change people’s mindset towards proper sanitation use.Keep villages clean.Ensure solid and liquid waste management through gram panchayats.Lay water pipelines in all villages, ensuring water supply to all households by 2019

Rajendra jatav 6 months 1 week ago

Construct individual, cluster community toilets.Eliminate or reduce open defecation. Open defecation is one of the main causes of deaths of thousands of children each year.Construct latrines and work towards establishing an accountable mechanism of monitoring latrine use.Create Public awareness about the drawbacks of open defecation and promotion of latrine use.Recruit dedicated ground staff to bring about behavioural change and promotion of latrine use.

yashdeep jain 6 months 2 weeks ago

pleases do special for fresher engineer either they all get deviated.

i think every company must have to provide free internship for 10 student every year 2 times.
so, many of student get knowledge from that internships respective to their field.
time is came well govt. employers' engineer(son & daughter) start thinking to get settle self as shopkeeper, stalls and all.
its an enormous loss for young India coming India.

ANIL KUMAR CHAUHAN 6 months 2 weeks ago

Sir, we can make India into a well developed nation within 15 years by sustained and well planned plantation.We can plant thousand kinds of many billions trees and shrubs which provide fruits, vegetables,edible oil, cereals and medicines etc asides the railways , roads , canals and streams1.2 billion safou fruit will produce 150 million ton of edible oil, 1.2 billion trees of maya bread nut can produce 300 million ton cereal,1.2 billion trees of african bread fruit will produce 200 million ton

ANIL KUMAR CHAUHAN 6 months 2 weeks ago

Respected sir,we can solve the problem of shortage of fresh water for drinking and irrigation purposes by the desalination of sea water by the external electric field and ionic separation to produce huge energy and fresh water to send the water through pipeline. Desalination of water through this method need not any considerable energy due to perfectly insulated metal plates.That will solve not only the problem of fresh water but power crisis also.But for all you have to support us for experimen