You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Golden Hour

Start Date: 05-02-2021
End Date: 31-03-2021

'गोल्डन ऑवर'- घायल के लिए संजीवनी - इस कैंपेन हेतु सुझाव आमंत्रित ...

See details Hide details


'गोल्डन ऑवर'- घायल के लिए संजीवनी - इस कैंपेन हेतु सुझाव आमंत्रित है।

जीवन कीमती है और इसका मूल्य तब पता चलता है, जब किसी सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति मदद की गुहार लगा रहा होता है। ऐसे में हमारे आस-पास कुछ ऐसे नेक व्यक्ति होते हैं जो मदद के लिए अपना हाथ आगे करते हैं और घायल को अस्पताल ले जाते हैं। पुलिस अब इन नेक व्यक्तियों से कोई पूछताछ नहीं करेगी ।

अतः अब केंद्रीय सरकार, मोटर यान (संशोधन) अधिनियम, 2019 की धारा 134क के अनुसार जो नेक व्यक्ति है उन पर नियम 168 लागू होगा। जिसमे निहित है कि नेक व्यक्ति के साथ किसी भी प्रकार का भेदभाव किये बिना सम्मानपूर्वक व्यवहार किया जाएगा।

पुलिस ट्रेनिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट (PTRI), पुलिस मुख्यालय, भोपाल द्वारा इस नेक काम में जन-भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए 'गोल्डन ऑवर'- घायल के लिए संजीवनी कैंपेन शुरू किया गया है। इस कैंपेन का उद्देश्य सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम और दुर्घटना में घायलों की मदद के लिए नागरिकों को प्रेरित करना है।

सड़क सुरक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यक्तियों / सामजिक संगठन / ट्रस्ट एवं सेमेरिटन द्वारा किए गए सराहनीय कार्य को सम्मानित करते हुए केंद्र सरकार का सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय द्वारा केंद्र एवं राज्य स्तर पर अलग-अलग श्रेणियों में पुरुस्कृत किया जाएगा।

विस्तृत जानकारी मंत्रालय की वेबसाइट https://morth.nic.in/ पर उपलब्ध है।
मोटर यान (संशोधन) अधिनियम, 2019

'गोल्डन ऑवर'- घायल के लिए संजीवनी कैंपेन को बेहतर बनाने के लिए और नेक व्यक्तियों की साझेदारी बढ़ाने के लिए अपने सुझाव यहां comment box में साझा कर सकते हैं।

All Comments
Reset
107 Record(s) Found
2480

Vishal Dangi 2 days 22 hours ago

अभिनव पहल हैं विभिन्न सामाजिक संगठनों के nyks, ncc, nss आदि के जरिये कैंप लगाकर इसको बेहतर रूप से प्रचारित किया जा सकता हैं और जो इन कार्यों में समाहित हैं उनका सम्मान समारोह आयोजित करके भी इस कैंपेन को बेहतर बनाया जा सकता हैं

200

KRUSHNACHANDRATUDU 3 days 15 hours ago

In case of finding a casualty first aid should be immediately rendered without losing time irrespective of the case and medical assistance may be sought by dialing helpline so that precious life can be saved before doctor arrives. It is our primary responsibilty to render helpless casualty lying and seeking help for immediate medical assistance can be a Sanjivani for a victim.

100

Vipul Ghosh 3 days 18 hours ago

I think in case of accidents, FIR should be done after treatment, and the person who brought the suffered people in hospital should be relieved from the FIR, then I think people bebec

780

Prateekchhabra 4 days 23 hours ago

The one who helps the Persons suffering from accidents should be encouraged to reach the hospital. Publicity can be disseminated through respect, praise and media. It is my intention that some people will go ahead in helping this.