You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

आपकी पसंद और शानदार महेश्वरी साड़ियाँ

साड़ी महिलाओं के सौदर्य को अलग-सा निखार प्रदान करती है, अपनी सहजता, ...

See details Hide details
Last Date- Feb 28,2018 10:49 AM IST (GMT +5.30 Hrs)

साड़ी महिलाओं के सौदर्य को अलग-सा निखार प्रदान करती है, अपनी सहजता, सौम्यता और आकर्षण की वजह से इस पहनावे को ख़ासा पसंद किया जाता है। देश और दुनिया में मूल्यवान और अद्वितीय साड़ियों का एक अलग बाजार है, जो हर ख़ास-ओ-आम को लुभाता है। केरल के त्रावणकोर में बेशकीमती 12 रत्नों से जड़ी 40 लाख रुपए की साड़ी और कांचीपुरम में 12 महीने में तैयार की जाने वाली 40 करोड़ रुपये की “विवाह पट्टू” जैसी हजारों दूसरी तरह की साड़ियों की धूम पूरी दुनिया में है।

दुनिया के साड़ी बाजार में मध्यप्रदेश ने भी अपनी सशक्त उपस्थिति दर्ज कराई है. यहाँ की चंदेरी, सिल्क, बाग़ प्रिंट, बटिक छपाई, महेश्वरी आदि साड़ियों को बेहद पसंद किया जाता है। महेश्वरी साड़ियों ने महिलाओं के दिल में अपनी एक ख़ास जगह बनाई है. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से लगभग 300 किलोमीटर दूर स्थित महेश्वर शहर में इन अद्भुत साड़ियों का सृजन होता है। इसका श्रेय होलकर घराने की लोकप्रिय रानी अहिल्याबाई होलकर को जाता है. कहा जाता है कि 18 वीं शताब्दी में रानी ने 9 गज की साड़ी बनाने के लिए सूरत और मालवा के बेहतरीन कारीगरों को बुलाया था. पहली साड़ी रानी ने स्वयं डिजायन की और बाद में इस कला को बढ़ावा दिया. इसके बाद राजघराने की महिलाओं द्वारा महेश्वरी साड़ियाँ ही पहनी जाने लगीं. आज ये महेश्वरी साड़ियाँ दुनिया भर में प्रसिद्द हैं जिनमें कारीगरों द्वारा जरी और कढ़ाई का बारीक काम किया जाता है।

म.प्र. सरकार महेश्वरी साड़ियों को निरंतर प्रोत्साहन देकर इसे देश दुनिया में पहचान दिला रही है. संचालनालय, हाथकरघा एवं हस्तशिल्प, प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ कारीगरों द्वारा हाथकरघो पर निर्मित शानदार साड़ियों में से बेस्ट 5 साड़ियों का चयन करने के लिए आपको आमंत्रित करता है। आपका यह सहयोग इस कला को एक नई उंचाई देने में योगदान होगा। चित्रों को देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें और अपनी पसंद को कमेन्ट बोक्स में लिखें.

All Comments
Total Submissions ( 48) Approved Submissions (0) Submissions Under Review (48)