You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

"जन्म के एक घंटे के भीतर स्तनपान ना करा पाना”- कारण व समाधान सुझाएं

शिशु के जन्म का पहला घंटा बहुत ही “महत्वपूर्ण” होता है क्योंकि जन्म ...

See details Hide details
Closed

शिशु के जन्म का पहला घंटा बहुत ही “महत्वपूर्ण” होता है क्योंकि जन्म से एक घंटे के भीतर स्तनपान कराना नवजात शिशु के स्वस्थ जीवन का आधार बन सकता है।

जन्म के एक घंटे के भीतर ही शिशु को स्तनपान कराना आवश्यक है क्योंकि:
● जन्म के तुरन्त बाद एक घंटे के भीतर बच्चे को माँ का पीला, गाढ़ा दूध खीस (कोलोस्ट्रम) दिया जाना चाहिए। यह उसका रोगों के प्रति पहला टीकाकरण है।
● जन्म के तीन दिनों तक ही शिशु को माँ के दूध से खीस (कोलोस्ट्रम) मिलता है, यह समय निकल जाने के पश्चात जीवन भर इसका कोई विकल्प नहीं।
● कोलोस्ट्रम प्रोटीन से भरपूर होता है जो शिशु की आँतों की परिपक्वता (विकास) में सहायक होता है।
● जन्म के पहले घंटे में कोलोस्ट्रम का सेवन कराने से इस बात की संभावना बढ़ जाती है कि शिशु का स्तनपान करना जारी रहेगा, जो शिशु को कुपोषण से लड़ने के लिए एक आवश्यक आधार प्रदान करता है।
● जन्म के पहले घंटे स्तनपान शिशु के प्रतिरक्षा तंत्र के निर्माण में सहायक होता है।
● कोलोस्ट्रम में इम्यूनोग्लोबिन होने के कारण यह जीवन रक्षक होता है जो शिशु को संक्रमण,एलर्जी से बचाता है एवं रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाता है।
● कोलोस्ट्रम विटामिन ‘A’ विटामिन ‘k’ एवं अन्य पोषक तत्वों से भरपूर है जो शिशु की आँखों को स्वस्थ रखता है, साथ ही उसे पीलिया तथा अन्य बीमारियों से बचाता है।
● नवजात शिशु को स्तनपान के दौरान माँ से शारीरिक जुड़ाव से प्राप्त गर्मी से शिशु का आवश्यक शारीरिक तापमान बना रहता है। साथ ही माँ एवं बच्चे के बीच भावनात्मक संबंध मजबूत होते हैं।
● शोध बताते हैं कि जन्म से एक घंटे के भीतर ही शिशु को स्तनपान शुरू कराकर जीवन के पहले ही महीने में होने वाली 5 में से 1 बाल मृत्युदर रोकी जा सकती है।

स्तनपान शिशु के लिए सम्पूर्ण आहार के साथ उसके सम्पूर्ण जीवन का आधार भी है। माँ के दूध में सभी आवश्यक पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए माँ के दूध का दुनिया में कोई विकल्प नहीं और यह नवजात के लिए अत्यंत आवश्यक है।

आंकड़े दर्शाते हैं कि हमारे प्रदेश में प्रति वर्ष जन्म लेने वाले 14 लाख बच्चों में से केवल 4.8 लाख बच्चों को जन्म के तुरन्त बाद जीवन रक्षक खीस (कोलोस्ट्रम) मिलता है। बाकी के 9.2 लाख बच्चे इससे वंचित ही रह जाते हैं और सही स्तनपान के आभाव में कुपोषण के खतरों से जूझ रहे हैं।

स्तनपान के समर्थन और बालहित में इसका प्रचार-प्रसार करने हेतु प्रतिवर्ष अगस्त महीने के पहले सप्ताह में विश्व स्तनपान सप्ताह मनाया जाता है। इसी क्रम में महिला एवं बाल विकास विभाग, मध्य प्रदेश इन दिनों "जन्म के पहले घंटे में स्तनपान क्यों नहीं कराया जा रहा है और इसका समाधान क्या होना होना चाहिए?" यह जानने के लिए एक प्रतियोगिता आयोजित करा रहा है।

इस समस्या पर अपने कारण और समाधान सुझायें और पुरस्कार जीतें। शीर्ष 10 सुझावों को रूपये 1000 /- का पुरस्कार दिया जाएगा।

कृपया अपनी प्रविष्टियों को निम्नलिखित प्रारूप में सबमिट करें:
ना कराने के कारण ... समाधान ...
1.
2.
3.

नियम एवं शर्तें:
● प्रतिभागी को अपना नाम, जिले का नाम,पता, ई-मेल एड्रेस और फ़ोन नंबर अनिवार्य रूप से प्रस्तुत करना होगा।
● प्रविष्टियाँ जमा करने की अंतिम तिथि 7 अगस्त, 2018 है।
● राज्य का कोई भी नागरिक इस प्रतियोगिता में प्रतिभागिता कर सकता है।
● प्रति व्यक्ति केवल एक प्रविष्टि ही स्वीकार की जाएगी।
● कृपया MS Word / PDF या JPEG प्रारूप में ही अपनी प्रविष्टि अपलोड करें।
● आपको प्रभावी समाधान के साथ न्यायसंगत कारण भी सुझाना होगा।
● अपनी प्रविष्टि को अधिकतम 100 शब्दों में जमा करें।
● उत्तर हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में स्वीकार किए जाएंगे।
● अधूरे प्रोफाइल के साथ प्राप्त प्रविष्टियों पर विचार नहीं किया जाएगा।
● आप इस विषय से संबंधित अधिक जानकारी के लिए www.bpni.org, waba.org.my पर लॉग इन कर सकते हैं।
● सभी प्रविष्टियों का निर्णय महिला एवं बाल विकास विभाग, मध्यप्रदेश के विशेषज्ञ पैनल द्वारा किया जायेगा एवं अंतिम निर्णय पैनल का ही मान्य होगा।
● चयनित प्रविष्टि के सर्वाधिकार महिला एवं बाल विकास विभाग, मध्यप्रदेश की संपत्ति होगी एवं इसमें किसी भी प्रकार के बदलाव का अधिकार सुरक्षित होगा।
● प्रतियोगिता में भाग लेने वाले सभी प्रतिभागी यह सुनिश्चित करें कि:
a) उन्होंने प्रवेश की शर्तों का पालन किया है;
b) उनकी प्रविष्टियां मूल हैं;
c) उनकी प्रविष्टि किसी तीसरे पक्ष के किसी भी बौद्धिक संपदा अधिकार का उल्लंघन नहीं करती है।

All Comments
Total Submissions ( 35) Approved Submissions (34) Submissions Under Review (1) Submission Closed.
Reset
34 Record(s) Found

Sanskriti sharma 10 months 1 week ago

जन्म के 1 घंटे के भीतर स्तनपान ना करा पाने का मुख्य कार
इस समस्या का मुख्य कारण है कम उम्र शादी और उसके कारण बालिकाओं कम उम्र में मां बन जाती है यह कारण समाज की स्थिति साफ दिखाता है कि आज भी संवैधानिक अधिकार नियमों के बावजूद बाल विवाह जैसी कुप्रथा प्रचलन में है

Mohan Meghwal 10 months 1 week ago

"जन्म के एक घंटे के भीतर स्तनपान ना करा पाना”- कारण व समाधान
प्रविष्टि अपलोड - PDF
नाम - मोहन मेघवाल
जिला का नाम - सिरोही
पता - गांव बावली, पोस्ट नवारा, वाया कालंद्री, जिला सिरोही, राजस्थान, भारत
पिन कोड - 307802
ईमेल - mmeghwal847@gmail.com
मोबाइल नंबर - 91 8890198527

yogesh gopinath gawand 10 months 2 weeks ago

शिशु के जन्म का पहला घंटा बहुत ही “महत्वपूर्ण” होता है।माँ का स्तनपान शिशु के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही आवश्यक है
जन्म के एक घंटे के भीतर स्तनपान ना करा पाना”- कारण व समाधान ...मैंने पीडीऍफ़ फॉर्मेट में ATTACH किये है ।

sangram tarai 10 months 2 weeks ago

Thanks for Awesome Contest team. Here are my Suggestion regarding problems n solution for Breastfeeding with in one hour of born of new child. Hope u like it.
Thanks
Sangram Tarai
Mob- 8462058488
Add- Shanti Power Guest house
Ucchibithi, Mahoda
Champa , Chattisgarh
Pin- 495671
samved.saachin@gmail.com