You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

आईये चर्चा करें, महात्मा गाँधी के बताये हुए रास्ते पर कैसे चलें

देश 02 अक्टूबर को राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की 150 वीं जयंती ...

See details Hide details

देश 02 अक्टूबर को राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की 150 वीं जयंती मनाने जा रहा है। आईये हम इस अवसर पर उनके बताये गए मार्ग पर चलने का संकल्प लें।

उन्होंने हमें सत्य, अहिंसा और स्वच्छता जैसे मंत्र दिए। उनके सत्य एवं अहिंसा के मार्ग पर चलकर देश ने आजादी प्राप्त की और आज भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है। गांधीजी ने एक और महत्वपूर्ण मंत्र देश को दिया है, वह है स्वच्छता का।

हम सत्य, अहिंसा और स्वच्छता के रास्ते को कैसे दैनंदिन प्रयोग में ला सकते हैं, इस सम्बन्ध में राज्य लोक सेवा अभिकरण आपके महत्वपूर्ण सुझाव आमंत्रित करता है।

All Comments
Reset
1 Record(s) Found
2250

PANKAJ KUMAR BARMAN 1 year 1 month ago

1887 में मोहनदास ने जैसे-तैसे 'बंबई यूनिवर्सिटी' की मैट्रिक की परीक्षा पास की और भावनगर स्थित 'सामलदास कॉलेज' में दाख़िला लिया। अचानक गुजराती से अंग्रेज़ी भाषा में जाने से उन्हें व्याख्यानों को समझने में कुछ दिक्कत होने लगी। इस बीच उनके परिवार में उनके भविष्य को लेकर चर्चा चल रही थी। अगर निर्णय उन पर छोड़ा जाता, तो वह डॉक्टर बनना चाहते थे। लेकिन वैष्णव परिवार में चीरफ़ाड़ के ख़िलाफ़ पूर्वाग्रह के अलावा यह भी स्पष्ट था कि यदि उन्हें गुजरात के किसी राजघराने में उच्च पद प्राप्त करने की पारिवारिक पर