You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

Identify Black Spot of your area and share with us

Start Date: 07-07-2021
End Date: 15-08-2021

सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए अपने जिले/शहर/क्षेत्र के ऐसे ...

See details Hide details


सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए अपने जिले/शहर/क्षेत्र के ऐसे संभावित ब्लैक स्पॉट बताएं, जहाँ पर सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं।


ब्लैक स्पॉट बताते समय अपने क्षेत्र का विवरण अवश्य दें।

क्या है ब्लैक स्पॉट?

ब्लैक स्पॉट की परिभाषा : राष्ट्रीय राजमार्ग पर 500 मीटर का वह क्षेत्र जहां विगत 3 केलिन्डर वर्ष में या तो 5 सड़क दुर्घटना (सभी तीन वर्ष में घातक/गंभीर चोटों को मिलाकर) या १० मृत्यु (३ वर्ष के अन्तर्गत) कारित हुई हो, उस स्थान को ब्लैक स्पॉट कहते है।

ब्लैक स्पॉट का परिशोधन:
Supreme court Committee on road safety & MORTH के द्वारा ब्लैक स्पॉट के परिशोधन के सम्बन्ध में दिए गए दिशानिर्देश का लीड़ एजेंसी PTRI द्वारा सभी सड़क नोडल निर्माण एजेंसीओ से पालन करवा कर Supreme court Committee on road safety को भेजा जाता है।

ब्लैक स्पॉट,का परिशोधन निम्न सड़क निर्माण एजेंसी द्वारा स्वयं के बजट पर किया जाता हैं –
1. PWD ( NH)
2. PWD (B & R)
3. NHAI
4. MPRDC
5. MPRRDA
6. UADD

साथ ही सड़क निर्माण एजेंसी द्वारा निर्मित रोड का थर्ड पार्टी ऑडिट स्वत्रंत संस्था से कराया जाता हैं।

ब्लैक स्पॉट को कम करने के लिए पुलिस प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान,पुलिस मुख्यालय,भोपाल द्वारा किए गए उपाय :-

• सड़क के दोनों और Crash barriers ,
• Rumble strips,
• Sign Boards,
• Speed breakers,
• Road marking,
• road curve improvement,
• road alignment improvement,
• Geographical Road improvement, etc.

पुलिस प्रशिक्षण एवं शोध संस्थान (PTRI), पुलिस मुख्यालय, भोपाल द्वारा इस कैंपेन का उद्देश्य सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम करना हैं, ब्लैक स्पॉट को कम करने के लिए सुझाव नीचे दिए गए comment box में साझा करें। ब्लैक स्पॉट बताते समय अपने क्षेत्र का विवरण अवश्य दें।

All Comments
Reset
43 Record(s) Found
1610

Amit Rajput 1 day 1 hour ago

मैं वीडियो बना रहा हूं और मैं आजकल की डिजिटल प्रिंटर ग्राम बगैरा मनाते आदमी तो कोई पुलिस वाले कोई इज्जत नहीं रहती तो प्लीज वालों का दबाव होना चाहिए और तभी हमारा देश चल पाता है इसे पहले की राजाओं का जवाब था तो कभी भी कोई उठकर नहीं जा सकता था हमारे स्वतंत्र भारत में अभी भी आए दिन कुछ ना कुछ होता ही रहता है एक्सीडेंट हुआ हम सबसे अधिक हुआ है क्योंकि एक तो गांव वाले गांव में भी एक्सीडेंट होते हैं गांव में नहीं होता कि ग्राम पंचायत के लोग ज्यादा नहीं देखते रोड के बारे में हां पर रोड 5-10 साल में

1610

Amit Rajput 1 day 1 hour ago

सबसे अधिक रोड दुर्घटना इस कारण से होती है क्योंकि कोई-कोई लोग शराब पीकर चले जाते हैं पुलिस को एक काम जरूर करना चाहिए कि उनको शराबियों से जुर्माना ना लेकर ने जेल में तथा जुर्माना लेना चाहिए पर अधिक जुर्माना बढ़ा दिया जाए जिसके कारण शराबी शराब पीकर गाड़ी ना चलाएं और पुलिस को क्योंकि पुलिस तो उसे जुर्माना ले लेती है पर शराबी आदमी जांगड़ कोई पता है उसका एक्सीडेंट हो जाए यह बात रहती है Jo red light green light tere ko andekha karta hai use khada se khada दंड दिए जाने चाहिए क्योंकि कोई पता था एक वीडिय

250

Raviprakash Vishwakarma 1 day 4 hours ago

पन्ना जिला के अमानगंज गुनौर रोड में ग्राम महेवा क्रेशर के पास बेहरासर तिराहा में आएदिन दुर्घटना होती रहती है जिसमे जनहानि होती है

4410

Sunil patel 3 days 2 hours ago

रोड पूरी नहीं बनती है और रोड उखाड़ने लगती है. गावं का अनपढ़ और शहर का छोटा बच्चा भी कह देता हैं की रोड में तो गड्ढे ही गड्ढे हैं. रोड बनने के बाद बारीक़ रेत डामर के साथ नहीं बिछती है तो रोड में गड्ढे होते हैं और वर्षा के पानी गिरने से भाप बनने से रोड की गिट्टी उखाड़ने लगती हैं. भाप से रेल गाड़ी चल सकती हैं तो रोड की गिट्टी क्यों नहीं उखड़ेगी. PWD के इंजिनियर से वेरीफाई करवाने की जगह आस पास के लोगों से वेरीफाई करवाओं, रोड में गड्ढे नहीं होने और कोई एक्सीडेंट नहीं होगा.

420

AbhishekKumarshyam 4 days 15 hours ago

डिंडोरी जिला के मंडला रोड में गैस गोदाम के पास है बाय सिटी बायपास एक बड़ा सड़क दुर्घटना हो सकता है वहां पर एक स्पीड ब्रेकर की आवश्यकता है साथ ही साथ डिंडोरी जिले से 5 किलोमीटर दूर raipura में हाई सेकेंडरी स्कूल जो कि सड़क के बिल्कुल नजदीक में है वहां दुर्घटना हो सकता है इसलिए सर वहां स्पीड ब्रेकर की सख्त जरूरत है क्योंकि वे हाईवे रोड में है