You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

MP Tree Plantation Promotion Bill 2021

Start Date: 30-09-2021
End Date: 16-11-2021

मध्यप्रदेश वृक्षारोपण प्रोत्साहन विधेयक 2021 प्रारूप के संबंध ...

See details Hide details
MP Tree Plantation Promotion Bill 2021


मध्यप्रदेश वृक्षारोपण प्रोत्साहन विधेयक 2021 प्रारूप के संबंध में सुझाव आमंत्रित हैं।

यह विधेयक निजी भूमि पर वृक्षारोपण को प्रोत्साहित करने हेतु लागू होगा।

मध्यप्रदेश में निजी भूमि पर वृक्षारोपण को प्रोत्साहित करने के लिए मध्यप्रदेश वृक्षारोपण प्रोत्साहन विधेयक 2021 बनाया गया है। यह नगरपालिक क्षेत्रों को छोड़कर पूरे मध्यप्रदेश पर लागू होगा।
• विधेयक के अनुसार निजी भूमि से आशय उस भूमि से है जो कि भूमि स्वामी अधिकारों से या सरकार से पट्टा, अनुज्ञप्ति या हस्तांतरण से धारित करता है।
• उत्‍पादक द्वारा उगाये गये वृक्षों को किसी भी उम्र में बिना किसी अनुमति के काट सकेगा।
• उत्पादक अपने द्वारा रोपे गए पौधों के संवर्धन एवं प्रबंधन करने की ऐसी पद्धति अपना सकेगा, जैसा वह उचित समझे।
• उत्पादक संबंधित ग्राम पंचायत के भीतर किसी भी स्थान पर, जिसमें वृक्षारोपण किया गया है, काष्‍ठ टॉल स्थापित कर सकेगा।
• काष्‍ठ टाल में इमारती काष्‍ठ की प्रसंस्‍करण ईकाई स्‍थापित करने की सशर्त सुविधा रहेगी।
• विनिर्दिष्‍ट वनोपज सागौन एवं साल का शासकीय ई-पोर्टल के माध्‍यम से खेत अथवा टाल से ही बिक्री करने एवं स्‍वयं बोली स्‍वीकार करने तथा सीधे भुगतान लेने की छूट दी गई है।
• सागौन एवं साल विनिर्दिष्‍ट प्रजातियों के वृक्षों से प्राप्‍त काष्‍ठ के परिवहन हेतु परिवहन अनुज्ञा-पत्र आवश्‍यक होगा। शेष प्रजातियों हेतु परिवहन अनुज्ञा-पत्र से छूट दी गई है परन्‍तु किसान यदि चाहे तो खुद ही टीपी पोर्टल से निकाल सकेगा।
• अपराध नियंत्रण की दृष्टि से वन सीमा से लगे ग्राम पंचायतों से काष्‍ठ परिवहन के लिए परिवहन अनुज्ञा-पत्र अनिवार्य रखा गया है।
• सभी प्रकार के परिवहन अनुज्ञा-पत्र कृषकों को इलेक्‍ट्रानिक तरीके से प्राप्‍त होंगे।
• आदिवासियों के हित संरक्षण को ध्‍यान में रखते हुये उनके खेतों में खड़े वृक्षों को काटने व बिक्री करने के नियम यथावत रखे गये हैं।
• विधेयक के उपबंधों के उल्लंघन पर जुर्माने का प्रावधान भी रखा गया है।

पूरे प्रारूप प्रावधानों को जानने के लिए क्लिक करें

माननीय मुख्यमंत्री जी इस विधेयक के संबंध में आपके सुझाव जानना चाहते हैं। अतः अपने सुझाव आप नीचे दिए गए कमेंट बॉक्स में साझा करें।

All Comments
Reset
111 Record(s) Found
890

ARVIND KUMAR 1 year 2 months ago

Let us understand how deforestation harms our environment. This increases the amount of carbon dioxide in our atmosphere. The quality of the soil deteriorates as it dries up first and then gets eroded by water and wind. Deforestation also reduces rainfall and increases the risk of drought.

https://www.freejobbalerts.com/p/sarkari-exam.html
https://www.freejobbalerts.com/p/sarkari-result.html
https://www.freejobbalerts.com/p/free-job-alert.html

890

ARVIND KUMAR 1 year 2 months ago

First of all, the government should think deeply that after planting trees, there should be proper arrangement of water in them because trees are planted but due to not taking care of them, they dry up. This harms both the tree and the money. Along with this, the work of planting trees should be done by MNREGA so that people get employment as well as trees can be taken care of well.

https://www.freejobbalerts.com/
https://www.wittyflick.com/

31860

reetamodi 1 year 2 months ago

मध्यप्रदेश वृक्षारोपण प्रोत्साहन विधेयक 2021 का प्रारूप अच्छा है लेकिन इसमें जुर्माना कम से कम रखा जाना चाहिए ताकि लोग बिना किसी झिझक के अपनी निजी भूमि पर अधिक से अधिक वृक्षारोपण के लिए प्रोत्साहित हो सकें।

847940

abhishek yadav 1 year 3 months ago

सबसे पहले सरकार को इस पर गहन विचार करना चाहिए कि पेड़ लगाने के बाद उनमें पानी की समुचित विवस्था हो क्योंकि पेड़ तो लगा दिए जाते है पर उनका ध्यान न रखने के कारण वो सूख जाते हैं। इससे पेड़ और पैसा दोनों की हानी होती है। और साथ वृक्षा रोपड़ का काम मनरेगा द्वारा कराया जाना चाहिए जिससे लोगों को रोजगार भी मिले साथ ही पेड़ो का अच्छे से ध्यान रखा जा सके

50620

Arun Rawat 1 year 3 months ago

हमनें अपने खेत में आम,अनार कास्ट लकड़ी,अमरूद के पौधे लगाये जो अब धीरे-धीरे पेड़ बन रहे है
और पर्यावरण को बचाने हेतू हमनें जौ फल वाले पौधे है उनके बीजो को एकत्र करके पौधों के रूप में तेयार कर पौधारोपण को बड़ावा दिया है जिससे पर्यावरण को बचाया जा सकता है