You don't have javascript enabled. Please Enabled javascript for better performance.

The rights of persons with disabilities

Start Date: 26-03-2021
End Date: 31-05-2021

नि:शक्तजनों के प्रति सार्वजनिक जागरूकता हेतु सुझाव

...

See details Hide details


नि:शक्तजनों के प्रति सार्वजनिक जागरूकता हेतु सुझाव

भारत सरकार व राज्य सरकार दिव्यांगजनों के लिए समान अवसर उपलब्ध कराने और राष्ट्र निर्माण में उनकी भागीदारी के लिए संकल्पित है। दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम 2016 के तहत संयुक्त रूप से विकास की ओर चलने के लिए मध्य प्रदेश सरकार ने नि:शक्तजनों के लिए म.प्र. दिव्यांगजन अधिकार नियम 2017 बनाये हैं। दिव्यांगताओं की श्रेणी बढाकर 21 कर दी गई है जो कि पहले 7 थी। दिव्यांगता के प्रकार में बौद्धिक अक्षमता, मानसिक बीमारी, स्वलीनता, जीन तंत्रिका अवस्था, द्रष्टिबाधित, अल्प द्रष्टि, वाक् और भाषा दोष, श्रवण विकलांगता, गतिजनित अक्षमता, मस्तिष्क पक्षाघात, कुष्ठ रोग, बौनापन, मांसपेशीय दुर्विकास, एसिड हमला पीड़ित, मल्टीपल स्कलेरोसिस,पार्किसन रोग,हिमोफिलिया, थेलेसीमिया, सिकल सेल रोग, विशिष्ट अधिगमन अक्षमता एवं बहुविकलांगता को शामिल किया गया है।

अक्सर देखा गया है कि नि:शक्तजनों का लाभ उठाकर समाज के कुछ लोग उन्हें नशे की बुरी आदत की तरफ ले जाते हैं जो अपने आप में ही गलत और अनुचित है। ऐसे में हम सभी का कर्तव्य है कि हम नि:शक्तजनों के प्रति सार्वजनिक जागरूकता पैदा करें, दिव्यांगों के सशक्तिकरण के लिए सुविधाएं प्रदान करने में सरकार के साथ उनके लिए सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करने में सहयोग करें।

आयुक्त नि:शक्तजन, मध्यप्रदेश द्वारा नि:शक्तजनों से जुड़े अधिकारों एवं उनके समुचित विकास के बारे में जागरूकता बढ़ाने हेतु विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम और अभियान चलाए जा रहे हैं। ऐसे में विभाग नागरिकों से नि:शक्तजनों के उत्थान की दिशा में आपके मूल्यवान विचार एवं सुझाव MPMyGov के माध्यम से आमंत्रित करता है।

All Comments
Reset
72 Record(s) Found
12420

Minesh Singh 1 day 12 hours ago

दे सको तो हमें शिक्षा दो, परवरिश दो।
ना की बेचारगी और दर दर की ठोकरें।

64650

Dr Usha Shukla 2 days 6 hours ago

समाज में जागरूकता पैदा करने के लिए मीडिया द्वारा आवाज उठानी होगी।

64650

Dr Usha Shukla 2 days 6 hours ago

बेचारगी की निगाहों से,
मत देखो हमें।
हम भी ईश्वर की बनाई
एक रचना हैं।

59300

abhishek yadav 2 days 19 hours ago

सरकार और सभी आम जनो को निःशक्तजनो की सेवा करनी होगी उनको इस बात का अहसान

2350

Rajiv Bhargava 3 days 20 hours ago

सर नमस्कार।निःशक्तजनोंके प्रति जागरूकता के लिए मध्यप्रदेश में आनंद विभाग के अंतर्गत कार्यरत आनंदम सहयोगी की सेवाएं लेनी चाहिए।साथ जो एक्टिव आनंदक हैं उनके माध्यम से भी यह कार्य संचालित कराया जा सकता है।

3850

jeevan singh rathore 1 week 2 days ago

एक csc सेंटर वाले जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित करते है परंतु इन्हें अनदेखा कर कार्य करने की मंजूरी नही मिलती जिससे सेवा कार्य करने के इच्छुक घर बैठे है

3850

jeevan singh rathore 1 week 2 days ago

सर नमस्कार मेरा एक सुझाव ये है कि कॉमन सर्विस सेंटर वालो को कार्य करने की इजाज़त मिलनी चाहिए हर गांव में एक csc सेंटर है हर शहर में कमसे कम 200 csc सेंटर है इनका कार्य निःशक्तजन को पेंशन वितरण कार्य AEPS से करते है और आयुष्मान कार्ड भी बनाते है और बीमा कार्य भी करते है इन्हें कार्य की इजाजत मिलती है तो बैको में भीड़ भी कम होगी आमजन को परेशानी भी कम होगी

64650

Dr Usha Shukla 1 week 6 days ago

स्वयंसेवी संस्थाओं और मीडिया की कोशिश से जनसाधारण में एक सकारात्मक सोच विकसित करने पर विचार किया जाना चाहिए। क्योंकि कम पढ़े लिखे और ग्रामीण जन अभी भी दिव्यांग जनों को बोझ मात्र समझते हैं।